सू ची की पार्टी को यांगॉन में सफलता

आंग सान सू ची इमेज कॉपीरइट AP

रविवार को म्यांमार में हुए चुनाव की मतगणना के पहले नतीजों के मुताबिक़ आंग सान सू ची की पार्टी एनएलडी ने म्यांमार के सबसे बड़े शहर यांगॉन की बारह सीटें जीत ली हैं.

वहीं एनएलडी के प्रवक्ता ने विन ह्तेन ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, "हम देश भर में 70 प्रतिशत सीटें जीत रहे हैं लेकिन चुनाव आयोग ने आधिकारिक पुष्टि नहीं की है."

सेना के समर्थन वाली यूनियन सॉलिडैरिटी डेवलपमेन्ट पार्टी (यूएसडीपी) 2011 से सत्ता में है.

यूएसडीपी के कार्यकारी अध्यक्ष यू ह्ते ऊ ने बीबीसी बर्मीज़ को बताया कि वो ख़ुद हिन्थाडा सीट पर एनएलडी के उम्मीदावर से हार गए हैं.

उन्होंने कहा, "हमें हारने के कारण देखने होंगे. हालांकि हम जो भी नतीजे आएंगे बिना किसी शर्त स्वीकार करेंगे. हमें अब भी आख़िरी नतीजे नहीं पता हैं."

इमेज कॉपीरइट Reuters

आंग सान सू ची ने रविवार के ऐतिहासिक चुनावों के बाद पहली बार अपने उत्साहित समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा है कि पार्टी के उम्मीदवारों को अभी बधाई देना थोड़ी जल्दबाज़ी होगी.

संविधान के मुताबिक़ सेना के पास संसद की 25 फ़ीसदी सीटें सुरक्षित हैं.

इसका अर्थ ये है कि सरकार बनाने के लिए विपक्षी पार्टी एलएनडी को बड़े बहुमत की ज़रूरत होगी.

इमेज कॉपीरइट AP

अगर एनएलडी की चुनाव में जीत भी होती है तो भी नोबेल पुरस्कार विजेता आंग सान सू ची राष्ट्रपति नहीं बन सकती क्योंकि संविधानिक तौर पर उनके राष्ट्रपति बनने पर रोक लगी हुई है.

म्यांमार के संविधान के मुताबिक़ जिस नागरिक के बच्चे विदेश में पैदा हुए हों, वो सर्वोच्च पद पर नहीं आसीन हो सकता.

सू ची के दोनों बेटों के पास ब्रितानी पासपोर्ट हैं और उनके पति एक विदेशी शिक्षक थे.

लोकतंत्र के लिए लंबी लड़ाई लड़ने वाली सू ची 15 सालों से ज़्यादा समय तक नज़रबंद रही थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार