यूरोप में 'जिहादी नेटवर्क' पर छापे

  • 12 नवंबर 2015
मुल्ला क्रेकर इमेज कॉपीरइट Getty

यूरोप के कई देशों में पुलिस ने एक ऐसे नेटवर्क पर छापे मारे हैं जो लड़ाकों को इराक़ और सीरिया भेजा करता था.

छापे में 16 इराक़-क़ुर्द और कोसोवो के एक नागिरक को गिरफ़्तार किया गया है.

ये छापे इटली, ब्रिटेन, नार्वे, फिनलैंड, स्विटज़रलैंड और जर्मनी में पड़े.

पुलिस का कहना है कि ये गुट अपने नेता को रिहा करवाने के लिए हमले करने की योजना बना रहा था.

इनके नेता का नाम नजमुद्दीन अहमद फराज है. उन्हें मुल्ला करेकार भी बुलाया जाता है.

फ़िलहाल वो नार्वे में क़ैद में हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

इटली की इन्सा समाचार एजेंसी के मुताबिक़ संदिग्ध अंतरराष्ट्रीय चरमपंथ से जुड़े हुए हैं.

इराक़ी-कुर्द मूल के मुल्ला क्रेकर इस्लामी कट्टरपंथी संगठन अंसार अल इस्लाम के संस्थापक है और 1991 में नॉर्व में शरणार्थी बनकर आए थे.

2012 में क्रेकर को अधिकारियों को जान से मारने की धमकी देने के मामले में सज़ा दी गई थी.

इस साल फरवरी में फ्रेंच अख़बार शार्ली एब्डो के कर्मचारियों पर चरमपंथ हमलों की टीवी पर प्रशंसा करने के मामले में क्रेकर को गिरफ़्तार किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार