'असहिष्णुता को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा'

इमेज कॉपीरइट AP

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि मुल्क में असहिष्णुता की किसी भी घटना को बर्दाश्त नहीं किया जाता है.

मोदी ने ये बयान एक सवाल के जवाब में दिया जो भारत में हाल में असहिष्णुता की कई घटनाओं के संबंध में था. उन्होंने कहा भारत गांधी और बुद्ध का देश है.

मोदी से ये सवाल लंदन में ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के साथ साझा बयान जारी करने के बाद पूछा गया था.

उन्होंने इस बात से भी इंकार किया कि ब्रिटेन ने कभी उनके वहां जाने पर रोक लगाई थी.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "मैं 2003 में जब ब्रिटेन आया था तो मेरा अच्छा स्वागत हुआ था. उसके बाद मैं ही समय की कमी की वजह से नहीं आ पाया."

इमेज कॉपीरइट PA

साझा बयान के बीच भारतीय प्रधानमंत्री ने कहा कि ब्रिटेन और भारत के बीच असैनिक परमाणु समझौता हो गया है.

मोदी से पहले बोलते हुए कैमरन ने कहा कि ब्रिटेन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का समर्थन करता है.

उन्होंने यह भी कहा कि ब्रिटेन भारत के साथ आर्थिक और सामरिक संबंध मजबूत करने के हक़ में है.

ब्रिटेन भारत में तीन शहरों के आधुनिकीकरण में सहयोग करेगा. यह शहर हैं पुणे, अमरावती और इंदौर.

कैमरन ने बताया कि दोनों देशों की कंपनियों के बीच 9 बिलियन पाउंड के समझौते हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "लंदन के वित्त बाज़ार से (हम) लगातार धन जुटा रहे हैं. मुझे ख़ुशी है और यह स्वाभाविक है कि हम लंदन में रेलवे रुपी बॉंड जारी करेंगे. क्योंकि यहीं भारतीय रेलवे की यात्रा शुरू हुई थी."

प्रधानमंत्री ने ब्रिटेन से सुरक्षा और बचाव के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर ज़ोर देते हुए कहा कि यह भविष्य में और बढ़ेगा. उन्होंने कहा, "मैं ख़ुश हूं कि ब्रिटेन फ़रवरी 2016 में भारत में अंतर्राष्ट्रीय फ़्लीट रिव्यू में शामिल होगा. ब्रिटेन भारत के रक्षा क्षेत्र के आधुनिकीकरण में भी मजबूत साझीदार बनेगा, जिसमें रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया शामिल है."

दोनों नेताओं ने पहले ब्रितानी प्रधानमंत्री के निवास स्थान पर इससे पहले बातचीत की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार