इस्लामिक स्टेट ने ली पेरिस हमलों की ज़िम्मेदारी

  • 14 नवंबर 2015
फ्रांसीसी राष्ट्रपति, फ्रांस्वा ओलांद इमेज कॉपीरइट EPA

शुक्रवार की रात पेरिस में छह जगहों पर हुए हमलों की ज़िम्मेदारी चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली है.

आठ चरमपंथियों के इन हमलों में अब तक कम से कम 129 लोगों की मौत हो गई है.

फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद ने पेरिस में हुए हमलों को चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट की तरफ़ से युद्ध की घोषणा करने वाला क़दम बताया है.

उन्होंने कहा कि इन हमलों की योजना विदेश में बनाई गई है लेकिन इसके लिए मदद फ्रांस में बैठे तत्वों ने की है.

हमलों के बाद राष्ट्रपति ओलांद ने एक विशेष सुरक्षा बैठक बुलाई और देश में आपातकाल की घोषणा कर दी. फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने कहा कि इसके लिए ज़िम्मेदार चरमपंथियों के साथ निर्ममता से निपटा जाएगा.

(पेरिस: कम से कम 127 की मौत, आपातकाल लागू)

देर रात आई ख़बर के मुताबिक़ पेरिस हमलों के संबंध में बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में पुलिस एक इलाक़े में तलाशी अभियान चला रही है.

बेल्जियम के टीवी नेटवर्क आरटीबीएफ़ के अनुसार एक सूत्र ने चैनल को बताया कि तीन जगहों में छापे मारे जा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

('मुंबई हमलों जैसी रणनीति पेरिस में अपनाई')

इमेज कॉपीरइट AFP

पेरिस में चरमपंथी हमला का फ्रांस पर बड़ा असर हुआ है. देशभर में बड़ी संख्या में सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं. सार्वजनिक स्थानों पर सभाएं करने पर गुरुवार तक रोक लगाई गई है साथ ही खेल मुक़ाबले भी स्थगित कर दिए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

फ्रांस के दक्षिणपंथी विपक्षी दल की नेता मारी ली पेन ने ट्विटर पर लिखा, "2015 में छठी बार इस्लामिस्ट चरमपंथियों ने हमारे देश को नुक़सान पहुंचाया है. फ्रांस अपने मृतकों के लिए रो रहा है और साथ ही मैं भी."

(पेरिस हमले की दुनिया भर में निंदा)

उन्होंने ट्वीट किया, "रूढ़िवादी इस्लाम को नष्ट करना ही चाहिए, अतिवादी मदरसों को बंद करना चाहिए, अतिवादी इमामों को निकाल देना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट EPA

विएना में सीरिया के मुद्दे पर वार्ता कर रहे राजनयिकों का कहना है कि पेरिस पर हुए हमले ने आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ने के उनके संकल्प को और मज़बूत किया है.

फ्रांसीसी अख़बार ला लिब्रेशॉ के अनुसार दो आत्मघाती हमलावरों के शवों के पास से सीरिया और मिस्र के पासपोर्ट मिले हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

पेरिस में ऐफ़िल टावर को अगली सूचना तक बंद कर दिया गया है.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार काले कपड़े पहने बंदूक़धारियों ने बंधकों को बहुत नज़दीक से गोली मारी. जब पुलिस ने वहां धावा बोला तो आत्मघाती जैकेट पहने तीन हमलावरों ने ख़ुद को उड़ा लिया, चौथे को गोली मार दी गई.

इमेज कॉपीरइट AFP

इससे पहले बंदूक़धारियों ने नज़दीक के रेस्त्रांओं में गोलियां बरसाकर कई लोगों की जान ले ली थी.

कुछ अन्य चरमपंथियों ने नेशनल स्टेडियम के बाहर तब बम विस्फोट किया जब वहां फ्रांस और जर्मनी के बीच फ़ुटबॉल मैच चल रहा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार