ऑस्ट्रेलियाई चरमपंथी की पत्नी ने जुर्म माना

इस्लामिक स्टेट इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ऑस्ट्रेलियाई सरकार के अनुमान के मुताबिक 120 ऑस्ट्रेलियाई लड़ाके इस्लामिक स्टेट के साथ लड़ रहे हैं.

ऑस्ट्रेलिया के सबसे कुख्यात चरमपंथी मोहम्मद एलोमार की पत्नी ने देश के बाहर चरमपंथ को सहयोग देने का ग़ुनाह क़बूल कर लिया है.

31 वर्षीय फ़ातिमा एलोमार को पिछले साल मई में एक अंतरराष्ट्रीय फ़्लाइट लेने के दौरान सिडनी में हिरासत में लिया गया था.

उनके सामान में नक़दी, दवाइयां और भेस बदलने की सामग्री पाई गई थी.

एलोमार ने अदालत में पेशी के दौरान विदेश में घुसपैठ करने के आरोपों को क़बूल किया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ऑस्ट्रेलियाई पुलिस के अनुसार मोहम्मद एलोमार 2013 में इस्लामिक स्टेट के साथ लड़ने के लिए सीरिया और इराक़ गए थे.

अदालत में पेश दस्तावेजों में फ़ातिमा और मोहम्मद के बीच भेजे गए टेक्स्ट मैसेज का ब्यौरा है.

इनमें फ़ातिमा अपने पति से गोली लगने के बाद इलाज के लिए वापस लौटने की गुहार लगा रही है.

इन संदेशों में एलोमार ने अपनी पत्नी से बच्चों के पासपोर्ट बनवाने के लिए कहा था ताक़ि पूरा परिवार आईएस की तथाकथित राजधानी रक्का में साथ रह सके.

एलोमार और उनके साथी ऑस्ट्रेलियाई ख़ालेद शार्रोफ़ की तस्वीरें पिछले साल सोशल मीडिया पर कटे हुए सिरों के साथ नज़र आई थीं.

एक तस्वीर में शार्रोफ़ का सात साल का बेटा भी एक सीरियाई सैनिक का कटा हुआ सर थामे दिख रहा था.

माना जाता है कि एलोमार इस साल जून में हुए एक हवाई हमले में मारे गए.

ऑस्ट्रेलियाई सरकार के एक अनुमान के मुताबिक क़रीब 120 ऑस्ट्रेलियाई नागरिक सीरिया में इस्लामिक स्टेट और अन्य चरमपंथी गुटों के साथ लड़ रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार