चीन नेपाल को गैस भेजने को तैयार

नेपाल में ईंधन की कमी इमेज कॉपीरइट bharatbandhuthapa

तेल और गैस की कमी से जूझ रहे नेपाल को चीन ने खाना बनाने में इस्तेमाल होने वाली एलपीजी गैस सप्लाई करने की पेशकश की है.

नेपाल-भारत सीमा पर मधेसी आंदोलन की वजह से रुके ट्रकों की आवाजाही के कारण नेपाल में ईंधन का संकट खड़ा हो गया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार चीन में नेपाल के राजदूत डॉ महेश मसकी ने कहा है कि चीन एलपीजी 'गैस बुलेट' सीधे काठमांडू पहुंचाने के लिए सीमा पर एक साझा कस्टम पोस्ट बनाने पर राज़ी है.

एलपीजी के एक बुलेट में 1,250 सिलिंडर आते हैं और नेपाल में एक महीने में 15 लाख गैस सिलिंडरों की खपत होती है.

इमेज कॉपीरइट AP

पंचखाल जहाँ कस्टम पोस्ट की पेशकश की गई है, काठमांडू से 75 किलोमीटर पूर्व में स्थित है.

वहीं नेपाल में सरकार ने लोगों को लकड़ी पर सब्सिडी देना शुरू कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Uma Bista

नेपाल सरकार अब चीन से ईंधन मंगाने के लिए एक व्यापार समझौता करने पर भी विचार कर रही है.

पीटीआई के मुताबिक चीन ने नेपाल को 13 लाख लीटर तेल देने का वादा किया था जिसमें से 90 फ़ीसदी तेल नेपाल भेज दिया गया है.

इससे पहले नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली ने भारत से कथित अघोषित नाकेबंदी ख़त्म करने की अपील की थी और कहा था कि नेपाल में ईंधन और अन्य ज़रूरी सामान की काफ़ी कमी हो गई है.

नेपाल की राजधानी काठमांडू में सब्सिडी से सस्ती लकड़ी खरीदने के लिए लोगों की लंबी कतारें लग रहीं हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार