'फ़्रांस पर जैविक, रासायनिक हमले का ख़तरा'

  • 19 नवंबर 2015
मैनुअल वास इमेज कॉपीरइट EPA

फ्रांस के प्रधानमंत्री मैनुएल वॉल्स ने संसद में कहा है कि आतंकवादी संगठन फ़्रांस पर रासायनिक या जैविक हथियारों से हमला कर सकते हैं.

संसद में फ़्रांस में इमरजेंसी तीन महीने बढ़ाए जाने की सरकार की पेशकश पर बहस के दौरान उन्होंने ऐसा कहा.

संसद के निचले सदन ने वोट के बाद इमरजेंसी की मयाद बढ़ाने की इजाज़त दे दी है. अब शुक्रवार को संसद के ऊपरी सदन में इस मुद्दे पर चर्चा होगी.

पिछले हफ़्ते पेरिस में हुए आत्मघाती हमलों और धमाकों के बाद वहाँ आपातकाल लागू है.

इन हमलों में 129 लोग मारे गए थे और 350 घायल हुए थे.

वॉल्स ने कहा, "हर समय हमले करने और जान से मारने के नए नए तरीके सामने आ रहे हैं. जो लोग ये आदेश दे रहे हैं, उनकी विकृत सोच की कोई सीमा नहीं है. सर कलम करना, आत्मघाती बमबारी, छुरे का इस्तेमाल...आज हम किसी भी विकल्प को छोड़ नहीं सकते."

इमेज कॉपीरइट AP

प्रधानमंत्री वॉल्स ने कहा, "मैं पूरी सतर्कता बरतते हुए कह सकता हूँ कि हमें ध्यान रखना होगा क्योंकि रासायनिक और जैविक हथियारों के इस्तेमाल का ख़तरा हमेशा बना हुआ है."

फ़्रांस ने पहले ही नर्व गैस का सामना करने और उसको बेअसर करने के लिए एट्रोपाइन सल्फ़ेट के वितरण की इजाज़त दे दी है.

पेरिस में पुलिस ने सार्वजनिक स्थलों पर बैठक करने और प्रदर्शन पर प्रतिबंध को रविवार आधी रात तक बढ़ा दिया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वॉल्स ने यूरोपीय देशों से आहवान किया कि वे सभी की सुरक्षा के लिए एयरलाइन यात्रियों की जानकारी साझा करे.

उधर पेरिस की पुलिस बुधवार को शहर के उत्तरी इलाक़े में हुए ऑपरेशन में मारे गए दो संदिग्ध लोगों की पहचान करने में जुटी है. इनमें से एक महिला थी जिसने आत्मघाती बेल्ट में विस्फोट किया था.

अब भी पेरिस हमलों के मास्टरमाइंड माने जाने वाले अब्देलहमीद अबाउद के बारे में अनिश्चितता बनी हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार