ब्राज़ील: तैरते हुए ज़हरीले कीचड़ से कई जीवों को ख़तरा

  • 22 नवंबर 2015
नदी में प्रदूषण इमेज कॉपीरइट Reuters

ब्राज़ील में लौह अयस्क खदान पर बना एक बांध टूटने के बाद ज़हरीले कीचड़ की लहर नदी से होते हुए अटलांटिक सागर के मुहाने पर पहुंच गई है.

दो सप्ताह पहले बांध टूटने के बाद यह कीचड़ क़रीब पाँच सौ किलोमीटर का सफर तय कर चुकी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

खदान चाले वाली कंपनी समारको ने रियो डोसे नदी पर नौ किलोमीटर लंबे तैरते हुए बैरियर लगाए हैं ताक़ि पर्यावरण को होने वाले नुक़सान को कम किया जा सके.

प्रदूषित कीचड़ की जांच में मरकरी, अर्सेनिक, क्रोमियम और मैंगनीज का ख़तरनाक़ स्तर पाया गया है.

नदी के मुहाने को चौड़ा करने का काम भी तेज़ी से जारी है ताक़ि कीचड़ समुद्र में दाख़िल हो सके.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस ज़हरीली कीचड़ से होने वाले प्रदूषण से जानवरों और पौधे पर ख़तरा मंडरा रहा है.

ये इलाक़ा लुप्तप्राय लैदरबैक कछुओं का प्रजनन स्थल भी है जो इस समय यहां अंडे दे रहे हैं.

अंडों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने के लिए भी लोग लगाए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

समुद्री जीवन विशेषज्ञ आंद्रेस रूची ने बीबीसी से कहा है कि कीचड़ के समुद्र में दाख़िल होने पर समुद्री जीवन पर इसका विनाशकारी असर होगा.

शोधकर्ता अलोसियो दा सिल्वा फ़ेरार्रो ने इस प्रदुषण का रियो डोसे नदी पर भी विनाशकारी असर होने की चिंता जताई है.

उन्होंने कहा, "नदी की जैव विविधता पूरी तरह से ख़त्म हो गई है, कई प्रजातियां ख़त्म हो जाएंगी."

इसी बीच समारको का कहना है कि वो दो और बांधों में मरम्मत कार्य कर रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इन बांधों पर भी टूटने का ख़तरा मंडरा रहा है.

इस हादसे में कम से कम 11-12 लोग लापता है और शक है कि वे सभी मारे गए हैं.

समारको ब्राज़ील सरकार को एक अरब डॉलर हर्जाना देने के लिए राज़ी हो गई है.

इस पैसे का इस्तेमाल शुरुआती सफ़ाई और पीड़ितों के परिजनों को मुआवज़ा देने के लिए किया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)