तुर्की ने रूसी विमान गिराने पर दुख जताया

  • 28 नवंबर 2015
इमेज कॉपीरइट AP

तुर्की के राष्ट्रपति तायीप एर्दोगान ने कहा है कि रूस का विमान गिराने से उन्हें अफ़सोस है.

तुर्की की सेना ने पिछले मंगलवार को सीरिया की सीमा के पास रूस का एक लड़ाकू विमान मार गिराया था.

एर्दोगान ने कहा है कि उनकी वो नहीं चाहते थे कि ऐसी घटना हो और उम्मीद है कि आगे ऐसा नहीं होगा.

एर्दोगान अभी तक इस मामले पर ख़ेद जताने से इनकार कर रहे थे, और उन्होंने कहा था कि रूस 'आग से खेल' रहा है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption तुर्की में रूसी राष्ट्रपति के ख़िलाफ प्रदर्शन करते लोग

तुर्की के राष्ट्रपति का यह बयान उस वक़्त आया है जब तुर्की ने अपने नागरिकों को रूस की ग़ैर ज़रूरी यात्रा करने से चेताया है.

तुर्की के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि जब तक स्थित साफ़ न हो जाए रूस की किसी भी यात्रा को रोक दें. रूस की राजधानी मॉस्को में तुर्की दूतावास के बाहर तुर्की के ख़िलाफ़ प्रदर्शनों के बाद तुर्की ने ये अपने नागरिकों को ये हिदायत दी है.

शुक्रवार को रूस ने तुर्की के साथ अपने वीज़ा मुक्त संबंधों को निलंबित कर दिया था और वह तुर्की पर बड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाने की योजना बना रहा है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सीरिया में अपने लडाकू विमानों की सुरक्षा के लिए रूस अपने सबसे आधुनिक मिसाइल सुरक्षा तंत्र एस-400 को तैनात करेगा.

बीबीसी के इस्तांबुल संवाददाता मार्क लॉवेन के मुताबिक़ "दुख जताना और माफ़ी मांगना अलग है, रूसी राष्ट्रपति उम्मीद कर रहे थे कि तुर्की के राष्ट्रपति इस घटना के लिए माफ़ी मांगेंगे, और जब तक तुर्की के राष्ट्रपति रूसी राष्ट्रपति से मांफ़ी नहीं मांगते हैं तब तक रूस के राष्ट्रपति ने उनसे फ़ोन पर बात करने से भी मना कर दिया है."

इमेज कॉपीरइट AP

फ़िलहाल दोनों ही राष्ट्रपतियों के सामने बड़ी समस्या यह है कि उन्हें अपने देश के समर्थकों को भी खुश रखना है और साथ ही दोनों देशों के बीच महत्वपूर्ण आपसी संबंधों को भी बचाकर रखना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार