मर्सिडीज़ जीएलएस एसयूवी में ख़ास क्या?

  • 30 नवंबर 2015
इमेज कॉपीरइट Daimler

मर्सिडीज अपनी एसयूवी कार जीएलएस-क्लास के मॉडल को एक दशक के बाद पूरी तरह से बदलकर 2017 में पेश कर रहा है.

मर्सिडीज अपनी इस 7-सीटर एसयूवी की इंजीनियरिंग के साथ इसके रंग रूप को आकर्षक बना रहा है, तकनीकी तौर पर नए मॉडल को ज्यादा अपडेट किया गया है.

इसके अलावा नए मॉडल में सामने की ग्रिल, नए डिज़ाइन के हेड लैंप्स और पिछले बंपर को भी बेहतर बनाया गया है. गाड़ी को नया अंदाज देने की कोशिश की गई है.

लेकिन इसके आंतरिक बदलाव कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण हैं. स्टियरिंग और कंट्रोल के बटन को कहीं ज्यादा आरामदेह बनाया गया है. पैदल चलने वालों के सामने आने पर ब्रेक भी अपने आप एक्टिव होगा. रियर फेस में एक रडार भी लगा होगा जो पीछे की तरफ़ टक्कर होने की संभावना के बारे में पहले ही सचेत कर देगा.

गाड़ी किसी भीड़ की स्थिति में खुद ही अपनी गति कम कर लेगी. इन सभी फिचर्स से कुल मिलाकर गाड़ी बेहद सुरक्षित हो गई है. इसके अलावा इसमें एक अच्छी एलईडी लाइटिंग व्यवस्था भी लगाई गई है.

जीएलएस के स्टैंडर्ड मॉडल में एयर सस्पेंसन को भी बेहतर बनाया गया है. जीएलएस के चार वर्जन 2017 में कंपनी उतारेगी.

इनमें जीएलएस 350डी (3 लीटर वी-6 टर्बो डीजल, 255 हार्स पॉवर), जीएलएस 450 (3 लीटर वी-6 ट्विन टर्बो पेट्रोल, 362 एचपी), जीएलएस 550 (4.7 लीटर वी-8 ट्विट टर्बो पेट्रोल, 449 हॉर्स पावर) वाले मॉडल उपलब्ध होंगे.

इसके अलावा जीएलएस63 एएमजी हाई परफॉर्मेंस वाली एसयूवी का मॉडल भी उपलब्ध होगा. इस 5.5 लीटर वी-8 ट्विन टर्बो पेट्रोल इंजन वाली कार की क्षमता 577 हॉर्स पावर की है.

इसके अलावा 4 मेटिक ऑल व्हील ड्राइव वाली कार में नौ बार ऑटोमेटिक स्पीड बढ़ाने के विकल्प होंगे. एएमजी मॉडल में ड्यूल क्लच गियर बॉक्स की मदद से सात बार स्पीड बढ़ाने का विकल्प था.

तीन स्पोक वाले स्टीयरिंग व्हील के अलावा इंस्ट्रूमेंट पैनल भी बेहतर होगा. सेंटर कंसोल के अलावा टच पैड कंट्रोल, लाइटिंग की व्यवस्था के साथ हवा को निकालने की बेहतर व्यवस्था की गई है.

मर्सिडीज की ये एसयूवी टॉप रेंज की गाड़ी है, जिसकी सबसे बड़ी खासियत यही है कि इसे नई तकनीक के साथ आरामदेह बनाने की हर संभव कोशिश की गई है.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें जो बीबीसी ऑटोस पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार