पेरिस सम्मेलन अहम मोड़ हो सकता है: ओबामा

इमेज कॉपीरइट AFP Getty

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए पेरिस में चल रहा सम्मेलन एक अहम मोड़ साबित हो सकता है.

उन्होंने कहा कि पर्यावरण के संरक्षण के लिए अब क़दम उठाने ही होंगे.

ओबामा ने कहा कि अमरीका इस समस्या को पैदा करने में अपनी भूमिका को स्वीकार करता है और इससे निपटने के लिए अपनी जिम्मेदारी को लेकर भी वो सजग है.

दुनिया में सबसे ज़्यादा कार्बन उत्सर्जन करने वाले देशों में सबसे ऊपर चीन है जबकि दूसरे नंबर पर अमरीका आता है. इसके बाद यूरोपीय संघ, भारत और ब्राजील का नाम आता है.

दुनिया के 147 देशों के नेता पेरिस में चल रहे संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं जिसका मक़सद बढ़ते तापमान को नियंत्रित करने के लिए एक वैश्विक समझौते पर सहमति क़ायम करना है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

सम्मेलन में मौजूद चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर होने वाले समझौते में ग़रीब देशों के लिए सहायता का प्रावधान भी शामिल होगा.

उन्होंने कहा कि ग़रीब देशों को अपनी ग़रीबी को कम करने और जीवन स्तर को सुधारने का मौक़ा दिया जाना चाहिए.

बहुत से देशों ने पहले ही अपने कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता वाले दस्तावेज़ सौंप दिए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)