क्या चैटिंग ऐप ने ईमेल की जगह ले ली है?

  • 5 दिसंबर 2015
चैटिंग इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

अपने बॉस के साथ फ़ेसबुक पर दोस्त बनना या सहकर्मियों के साथ दफ़्तर में ही चैटिंग आजकल खासी लोकप्रिय है.

कॉर्पोरेट ईमेल के ख़ौफ़ से बचने का भी यह रास्ता बनता जा रहा है.

दफ़्तर में आपसी संचार को आसान बनाने के लिए चैटर, स्लैक, यैमर और साथ ही फ़ेसबुक जैसे चैटिंग ऐप का इस्तेमाल हो रहा है.

रिसर्च कंपनी- मार्केट्स एंड मार्केट्स के मुताबिक़ सोशल सॉफ़्टवेयर का बाज़ार वर्ष 2019 में मौजूदा करीब 330 खरब से बढ़कर 528 खरब रुपए हो जाएगा.

यह बात सही है कि आंतरिक संचार के लिए 20 साल पहले ही कंपनी अस्तित्व में आ गई थी, लेकिन मोबाइल के अनुकूल मैसेजिंग एप की बाढ़ आने से इसकी जगह अब मोबाइल ने ले ली है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

जनवरी 2015 में फेसबुक ने अपना नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म फेसबुक एट वर्क लांच किया था और अब उन्होंने हाल फिलहाल में इससे जुड़ा चैट एप वर्क चैट लांच किया है.

ऐसा लगता है कि फेसबुक अपने डेढ़ खरब यूजर्स की बदौलत कॉरपोरेट मार्केट के साथ-साथ निजी क्षेत्रों पर भी काबिज होना चाहता है.

फेसबुक ने हेनकेन, लैगार्देरे और हूटसूट सहित छोटी-बड़ी 300 कंपनियों के साथ अनुबंध किया है.

फेसबुक का अबतक का सबसे बड़ा करार रॉयल बैंक ऑफ़ स्कॉटलैंड (आरबीएस) के साथ हुआ है.

आरबीएस में डिजाइन के डायरेक्टर केवीन हैनले का कहना है कि यह अलग-अलग व्यापारिक गतिविधियों के साथ एक साथ काम करने में मददगार है.

उनका कहना है, "फेसबुक एट वर्क अधिक पारदर्शी, कामकाजी और सहयोगात्मक संस्कृति के विकास में एक प्रमुख भागीदार है."

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

दुनियाभर में फेसबुक के साथ सहभागिता के मामलों को देखने वाली जूलियन कोडोरनु का कहना है कि फेसबुक सिर्फ संचार का माध्यम नहीं बल्कि उत्पादकता बढ़ाने वाला माध्यम भी है.

फेसबुक एट वर्क आम फेसबुक की ही तरह काम करता है.

अब सवाल उठता है कि क्या संचार के इन नए तरीकों ने ईमेल की उपयोगिता वाकई ख़त्म कर दी है?

इमेज कॉपीरइट Reuters

आलोचक कहते हैं कि ईमेल एकतरफा संचार का माध्यम है. भेजने वाले को यह नहीं पता चलता कि भेजा गया संदेश कितना प्रासंगिक है या उसे कितना समझा गयाय इसी तरह ईमेल पाने वाले अपना काफी वक्त अनचाहे ईमेल छांटने में लगाते हैं.

दफ्तरों के अंदर संचार में सोशल मीडिया ऐप के इस्तेमाल से जुड़ी एक बड़ी समस्या है जिसे लेकर कंपनियां अपने फैसले पर एक बार फिर से विचार कर सकती हैं.

वो समस्या है डेटा के सुरक्षा से जुड़ी हुई. क्या सेवा प्रदान करने वाली कंपनियां संवेदनशील व्यापारिक बातचीत का रिकॉर्ड अपने पास रख रही हैं.

सेफ हार्बर समझौते को यूरोपियन यूनियन की ओर से खारिज करने का मतलब यह है कि कंपनियां यह नहीं मान सकती हैं कि अमरीकी सेवा प्रदाता कंपनियां पर्याप्त सुरक्षा प्रदान कर रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार