अफ़्रीका-चीन कारोबार की 7 दिलचस्प बातें

  • 7 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट iStock

चीन अफ्रीका का सबसे बड़ा कारोबारी साझेदार है. हाल ही में चीन ने अफ्रीका में विकास की रफ़्तार को तेज़ करने के लिए क़रीब 60 बिलियन डॉलर (क़रीब 3800 अरब रुपये) की आर्थिक मदद और वित्तीय क़र्ज़ देने का वादा किया है.

ये कारोबारी रिश्ता केवल नई सड़क, खदान और सैन्य उपकरणों भर का नहीं है. बल्कि अफ्रीका के कारोबारी अब चीन में रह रहे हैं, काम कर रहे हैं वहीं हज़ारों चीनी भी अफ्रीकी देशों में कामकाजी सिलसिले में पहुंच रहे हैं.

चीन और अफ्रीकी महादेश के बीच कारोबारी रिश्ते को दर्शाने वाले सात दिलचस्प तथ्य:

1. 2671 करोड़ के विग

2014 में छोटा सा अफ्रीकी देश बेनिन विग और नक़ली मूछें चीन से सबसे ज़्यादा मंगाने वाले देश था. बेनिन चीन से 411 मिलियन डॉलर (क़रीब 2671 करोड़ रुपये) का विग और नक़ली मूछ ख़रीदता था. बेनिन चीन से क़रीब तीस लाख नक़ली बाल ख़रीदता था, जिसमें अधिकांश हिस्सा वह पड़ोसी देश नाइजीरिया को बेचता है.

1.6 करोड़ अंडरपैंट्स

दक्षिण अफ्रीका चीन में बने पुरुषों के अंडरपैंट्स का सबसे बड़ा ख़रीददार है. दक्षिण अफ्रीका ने 2014 में 1,87,47,003 अंडरपैंट्स का आयात किया था, इसमें 1,66,12,590 अंडरपैंट्स चीन में बने थे. यानी कुल आयात का 88 फ़ीसदी हिस्सा.

5,737 सरीसृप

मारीशस पिछले साल अफ्रीका से सबसे ज़्यादा सोया सॉस का आयात करने वाला देश था. मारीशस ने 4,38,929 डॉलर (क़रीब 2.8 करोड़ रुपये) का सोया सॉस ख़रीदा था. इसके बदले में मॉरीशस ने चीन को 90 हज़ार डॉलर (क़रीब 58 लाख रुपये) के 5,737 सरीसृप भेजे थे.

53 करोड़ की टॉयलेट सीट

अफ्रीका में कीनिया चीनी प्लास्टिक टॉयलेट सीट का सबसे बड़ा ख़रीददार है. 2014 में कीनिया ने 81, 97,499 डॉलर (क़रीब 53 करोड़ रुपये) की टॉयलेट सीट मंगवाई थीं.

15.9 करोड़ टूथ ब्रश

नाइजीरिया में चीनी तेल तो मिलते ही हैं, साथ में टूथब्रश भी ख़ूब बिकते हैं. नाइजीरियाई कारोबारी सालाना चीन से 93,72, 920 डॉलर (क़रीब 60 करोड़ रुपये) से अमूमन 15.9 करोड़ टूथब्रश ख़रीदते हैं. औसत के हिसाब से देखें तो प्रत्येक नाइजीरियाई के लिए एक टूथब्रश.

1235 करोड़ की मोटरबाइक्स

अफ्रीका में चीन में बने मोटरसाइकिल भी ख़ूब बिकते हैं. 2014 में टोगो ने चीनी मोटरसाइकिलों की ख़रीददारी पर 19,38,18,756 डॉलर (क़रीब 1235 करोड़ रुपये) ख़र्च कर रहे हैं. इससे ज़्यादा पैसा नाइजीरिया ने ख़र्च किया है वो भी 45,00,12, 993 डॉलर (क़रीब 2925 करोड़ रुपये).

340 बंदर

अफ्रीकी देश गुयाना ने 2014 में चीन को सबसे ज़्यादा बंदरों का निर्यात किया था. गुयाना ने 340 जीवित बंदरों को पिछले साल चीन भेजा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार