काबुल चिकन स्ट्रीट की रौनक़ क्यों गुम हो गई?

  • 9 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट

काबुल का चिकन स्ट्रीट ऐसी चीज़ों के लिए मशहूर है जहां से लोग अफ़ग़ानिस्तान की यादों को चीज़ों की शक्ल में ख़रीदकर अपने साथ ले जाते हैं.

विदेशी सेना और कामगारों के चले जाने से यहां के व्यापार को काफ़ी नुक़सान पहुंचा है.

इमेज कॉपीरइट

लैपीस लैज़ुली (क़ीमती पत्थर) की एक दुकान में जहां कभी दस कामगारों की जगह होती थी वहीं अब उसकी जगह चार कामगारों को रखा जाता है.

यह क़ीमती पत्थर अफ़ग़ानिस्तान के उत्तरी प्रांत बादाख़शान के खानों में पाया जाता है.

इमेज कॉपीरइट

इसके व्यापारी का कहना है कि पिछले साल से इसकी क़ीमत में ज़बरदस्त गिरावट आई है. इसकी क़ीमत क़रीब 43 हज़ार रुपए प्रति किलो से घटकर क़रीब 10 हज़ार रुपए प्रति किलो हो गई है.

इमेज कॉपीरइट

तालिबान के पतन के एक साल बाद 2002 में चिकन स्ट्रीट में काफ़ी रौनक़ आई थी. व्यापारियों का कहना है कि यह साल सबसे बेहतरीन था क्योंकि इस साल बड़े पैमाने पर विदेशी सेना और कामगार आए थे.

इमेज कॉपीरइट

इस स्ट्रीट का नाम चिकन स्ट्रीट एक मुर्ग़े की दुकान की वजह से पड़ा जो कि किंग ज़ाहिर शाह के समय में था.

इमेज कॉपीरइट

नाटो की सेना चिकन स्ट्रीट की सुरक्षा में तबसे तैनात रहती है जब अक्तूबर 2004 में एक क़ालीन की दुकान पर सेना के जवानों को निशाना बनाते हुए आत्मघाती हमला किया गया था.

इस हमले में एक अफ़ग़ानी महिला और एक लड़की मारी गई थी.

इमेज कॉपीरइट

अकबर सामांदरी सालों से चिकन स्ट्रीट में आभूषण और पुरानी चीज़ों की दुकान चलाते हैं. उनका कहना है, "जब विदेशी आए थे तो वो वक़्त चिकन स्ट्रीट के लिए सबसे बढ़िया वक़्त था. लेकिन यह सिर्फ़ 2007 तक रहा जब तक कि सुरक्षा व्यवस्था ख़राब नहीं हो गई. विस्फोट और आत्मघाती हमले शुरू हो गए."

इमेज कॉपीरइट

अफ़ग़ानिस्तान में मशहूर क़ालीन और ग़लीचों का बाज़ार भी ख़स्ताहाल में है. दूसरे व्यापारों के साथ क़ालीन का व्यापार भी चिकन स्ट्रीट में ख़राब हालत में है.

इमेज कॉपीरइट

हाल के सालों में चिकन स्ट्रीट के रेस्टॉरेंट और स्पोर्ट्स क्लब बंद हुए हैं. इसने जूस और बर्गर की फुटपाथी दुकानों के लिए जगह बना दी है.

इमेज कॉपीरइट

एक ओर जहां चिकन स्ट्रीट की दुकानों पर अफ़ग़ानी चीज़ों की मांग कम हो रही हैं वहीं आभूषणों की दुकान पर चाइनीज़ सामान दिखने लगे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार