'हमलावर जिहाद और शहादत की बातें करते थे''

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका के सैन बर्नारडिनो हमले के दोषी दंपत्ति एक-दूसरे से मुलाक़ात से पहले से चरमपंथ से प्रभावित थे.

अमरीकी एजेंसी एफ़बीआई ने यह सूचनाएं जारी की हैं.

सैन बर्नारडिनो में हुई गोलीबारी में 14 लोगों की मौत हुई थी जबकि 17 अन्य घायल हुए थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एफ़बीआई निदेशक जेम्स कोमी का कहना है कि तशफ़ीन मलिक और उनके पति सैयद रिज़वान फ़ारूक 2013 में ऑनलाइन डेटिंग के दौरान ज़िहाद और शहादत की बातें किया करते थें.

जांच एजेंसी का मानना है कि दोनों किसी विदेशी चरमपंथी संगठन से प्रेरित थे.

पिछले हफ़्ते हुआ यह हमला 9/11 के बाद अमरीका में सबसे खतरनाक चरमपंथी हमला माना जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट AP

हमले के बाद चले पुलिस अभियान के दौरान गोलीबारी में पति-पत्नी मारे गए थे.

जेम्स कोमी ने दंपत्ति को 'देसी हिंसक चरमपंथी' बताया और कहा कि वे विदेशी चरमपंथ से कितने प्रभावित थे, इस बारे में फ़िलहाल जांच हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार