रिहा किए गए गद्दाफी के बेटे हनिबुल

लेबनान में सुरक्षा सू्त्रों ने बताया है कि लीबिया के पूर्व शासक मुअम्मर गद्दाफी के बेटे हनिबुल गद्दाफी को रिहा कर दिया गया है.

उन्हें कुछ दिनों पहले लेबनान में एक सशस्त्र समूह ने अग़वा किया था.

उनके अपहरण के बाद लेबनानी टीवी पर एक वीडियो जारी किया गया था जिसमें हनिबुल 1978 में ग़ायब हुए एक लेबनानी शिया मौलवी मूसा-अल-सदर के बारे में जानकारी देने की अपील करते हुए नज़र आए थे.

पुलिस ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि हनिबुल को बालबेक शहर में रिहा करने के बाद बेरुत भेजा दिया गया.

40 वर्षीय हनिबुल को 2012 में ओमान में शरण दी गई थी.

हनिबुल के पिता मुअम्मर गद्दाफी को 2011 में विद्रोहियों ने सत्ता से बेदख़ल कर दिया था.

अल-सदर 20 सदी के एक प्रमुख शिया मौलीवी थे जो लीबिया यात्रा के दौरान लापता हो गए थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हालांकि मुअम्मर गद्दाफी ने इस पूर मामले में अपना हाथ होने से इनकार किया था, लेकिन कई लोग इसके लिए गद्दाफ़ी को ही ज़िम्मेदार मानते हैं.

इस मामले के कारण लीबिया और लेबनान के रिश्ते लंबे समय तक ख़राब रहे.

अभी तक यह नहीं पता चला सका है कि हनिबुल लेबनान में कितने समय तक रहे.

इससे पहले, ओमान में उन्हें अपनी बहन आएशा और मां साफिया के साथ नज़रबंद रखा गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार