तेल की क़ीमतें सात वर्षों के न्यूनतम स्तर पर

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी की ओर से तेल की मांग में कमी के अनुमान के बाद तेल की क़ीमत विश्व बाज़ार में 39 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई है.

कुछ विशेषज्ञों के अनुसार वैश्विक बाज़ार में तेल की क़ीमतों में और गिरावट हो सकती है और शायद यह 20 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच जाए.

साल 2013 में तेल की क़ीमत अपने रिकॉर्ड स्तर पर थी जब एक बैरल की क़ीमत 130 डॉलर के क़रीब थी.

शुक्रवार को तेल की क़ीमत 39 डॉलर प्रति बैरल थी जो दिसंबर 2008 के बाद निम्नतम स्तर है. अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी के अनुसार चालू तिमाही में तेल की दैनिक मांग 13 लाख बैरल है जबकि पिछली तिमाही में ये 22 लाख थी.

इमेज कॉपीरइट

पिछले एक सप्ताह में तेल की क़ीमतों में दस प्रतिशत की गिरावट देखने में आई है.

तेल की क़ीमतों में ये गिरावट पिछले सप्ताह वियेना में तेल उत्पादक देशों की बैठक के बाद शुरू हुई है जिसमें ओपेक की बैठक बिना किसी नतीजे के समाप्त हो गई थी.

ओपेक देश दुनिया में तेल उत्पादन का तीस प्रतिशत हिस्सा उत्पन्न करते हैं.

विशेषज्ञों के अनुसार अगर ईरान आर्थिक प्रतिबंधों के उठाए जाने पर अपनी कुल उत्पादन में प्रतिदिन हज़ारों बैरल की वृद्धि करता है तो तेल की क़ीमतों में और गिरावट की संभावना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार