पूर्व ग्वांतानामो क़ैदी ने कहा, 'देश छोड़ें चरमपंथी'

  • 13 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट AFP

ग्वांतानामो बे की जेल में ब्रिटेन के आख़िरी क़ैदी रहे शकर आमिर ने चरमपंथियों की तीखी आलोचना करते हुए उन्हें 'देश छोड़ कर चले जाने को कहा है'.

आमिर क्यूबा की ग्वांतानामो बे जेल में 14 साल काटने के बाद इसी साल अक्टूबर में लंदन लौटे हैं.

उन्होंने ब्रितानी अख़बार 'मेल' से बातचीत में चरमपंथी हमलों की निंदा करते हुए कहा, "आप यूं ही किसी को नहीं मार सकते हैं."

उन्होंने कहा, "आप इस देश में रहने के हक़दार कैसे हैं जब आप यहाँ सामान्य जीवन जीते हुए सड़क पर जाकर लोगों की जान लेने की कोशिश करते हैं? यदि आप इस देश से इतने ख़फ़ा हैं तो देश से चले जाएँ. यदि कुछ भी करने से पहले आप किसी को आतंकवादी की तरह देखते हैं तो आप उसको हिंसा की ओर धकेल देंगे. ये उनकी (चरमपंथियों की) ही मदद करेगा."

उनका कहना था कि इस्लाम के बारे में उनकी जानकारी तो ये है कि आम नागरिकों को मारने की अनुमति नहीं है.

आमिर ने ये भी बताया कि ब्रिटेन में वापस अपने परिवार के पास आना उनके लिए बेहद भावुक रहा.

उन्होंने कहा कि जब उन्होंने अपनी पत्नी को देखा तो उनकी बरसों की पीड़ा 'धुल गई'.

इमेज कॉपीरइट Foto cedida por la familia
Image caption आमिर की ये तस्वीर ग्वांतानामो बे में क़ैदी बनाए जाने से पहले की है

आमिर चार बच्चों के पिता हैं और अपने सबसे छोटे बेटे से वो वापस ब्रिटेन आने के बाद पहली बार मिले.

48 वर्षीय आमिर को तालिबानी इकाई चलाने और अल क़ायदा नेता ओसामा बिन लादेन से मुलाक़ात करने के आरोपों में ग्वांतानामो बे की जेल में रखा गया था.

लेकिन इस बारे में उन पर कभी आरोप तय नहीं किए गए.

'मेल' को दिए इंटरव्यू में उन्होंने दावा किया कि ग्वांतानामो बे की अमरीकी जेल में उनसे पूछताछ के दौरान बार बार लंदन में जिहादी गुटों में लोगों की कथित भर्ती में उनकी भूमिका के बारे में पूछा गया.

उन्होंने इससे हमेशा इनकार किया.

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने कहा कि 14 साल के दौरान उनसे 200 लोगों ने पूछताछ की थी.

आमिर का दावा है कि इस दौरान उनका उत्पीड़न भी किया और उन पर सोने से वंचित रखने और शून्य डिग्री से नीचे तापमान में फर्श से बांध देने जैसे तरीके भी आज़माए गए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार