चीन ने अमरीका पर लगाया 'उकसाने' का आरोप

  • 20 दिसंबर 2015
इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन ने अमरीका पर आरोप लगाया है कि वो उसे 'उकसाने वाले गंभीर क़दम' उठा रहा है.

ये आरोप दक्षिण चीन सागर में विवादित द्वीपों के पास अमरीकी बम वर्षक विमानों बी-52 की उड़ान के बाद लगाया गया है.

10 दिसंबर को इस तरह की उड़ान के दौरान चीनी सैन्य कर्मी सतर्क थे और उन्होंने विमानों को चले जाने की चेतावनी भी थी.

अमरीकी रक्षा मंत्रालय का कहना है कि वो इस बारे में मिली शिकायतों की पड़ताल कर रहा है.

चीन दक्षिणी चीन सागर के बड़े हिस्से पर दावेदारी जताता है लेकिन इस बारे में उसका अपने कई पड़ोसी देशों से विवाद चल रहा है.

अक्तूबर के महीने में एक अमरीकी युद्धपोत ऐसे ही एक विवादित द्वीप के क़रीब चला गया था जिसके बाद चीन ने अमरीका को कड़ी चेतावनी दी थी.

शनिवार को जारी बयान में चीन के रक्षा मंत्रालय ने आरोप लगाया कि विवादित स्प्रेटली द्वीपों के पास बी-52 लड़ाकू विमानों के ज़रिए उड़ान भर कर अमरीका जानबूझ कर क्षेत्र में तनाव बढ़ा रहा है.

अमरीकी अख़बार 'वॉल स्ट्रीट जरनल' की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि दो बी-52 विमान इस उड़ान अभियान थे और एक तो विवादित द्वीप के बहुत क़रीब जा पहुंचा था. चीन ने इसे 'उकसाने वाली कार्रवाई' बताया है.

वहीं पेंटागन के प्रवक्ता ने कहा है कि बी-52 विमानों की ये उड़ान नीति का हिस्सा नहीं है और विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसा नेविगेशन की ग़लती से भी हो सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार