रूहानीः इस्लाम की छवि सुधारें मुसलमान

इमेज कॉपीरइट AP

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी का कहना है कि मुसलमानों को इस्लाम की वैश्विक छवि सुधारने की कोशिश करनी चाहिए, जिसे लगतार हिंसा ने दाग़दार बना दिया है.

उन्होंने तेहरान में एक सम्मेलन में कहा, "हमें साइबर स्पेस और असलियत में छाई इस्लाम की नकारात्मक छवि को हटाना होगा."

नरम धार्मिक रुख़ रखने वाले राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि इस्लामिक सिद्धांत हिंसा के ख़िलाफ़ हैं.

अप्रत्यक्ष तौर पर सउदी अरब और उसके सहयोगी खाड़ी देशों का हवाला देते हुए उन्होंने उन देशों की निंदा की जो अमरीकी हथियार लाकर अपने ही भाईयों पर उनका इस्तेमाल कर रहे हैं.

यमन में सउदी अरब के नेतृत्व में हूती विद्रोहियों पर जो हवाई हमले किए गए, ईरान उसके सख़्त ख़िलाफ़ है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption रूहानी ने उन कष्टों का भी ज़िक्र किया जो अपने ही देश से भागने वाले मुसलमान शरणार्थियों को सहने पड़ते हैं

रविवार को इस्लामिक एकता पर हो रहे सम्मेलन को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रूहानी ने उस शर्म का ज़िक्र किया जो उन मुस्लिम बच्चों को देख कर महसूस होती है जो ग़ैर इस्लामिक देशों में शरण पाने के लिए लंबी और दर्दनक यात्राएं कर रहे हैं.

सरकारी टेलिविज़न पर लाइव प्रसारित किए जा रहे इस भाषण में उन्होंने कहा, "आज ये हमारा सबसे बड़ा फ़र्ज़ है कि दुनिया में इस्लाम की छवि को सुधारें."

इस्लाम की केंद्रीय जगहों पर लगातार हिंसा से इस्लाम की छवि को जो नुक़सान हो रहा है उस पर उन्होंने चिंता जताई और इस क्षेत्र के सभी देशों से अपील की कि वे हिंसा, आतंक और हत्याओं पर विराम लगाएं.

सीरिया, इराक़ और यमन में हत्याओं और ख़ून ख़राबे पर मुस्लिम देशों की चुप्पी की उन्होंने निंदा की.

ईरान सीरिया में राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार का समर्थन करता है और कथित इस्लामिक स्टेट संगठन के ख़िलाफ़ लड़ाई के लिए वह सीरिया को सैन्य सहायता भी दे रहा है.

ईरान के इराक़ के साथ भी क़रीबी रिश्ते हैं और वह इस्लामिक स्टेट के लड़ाकुओं की निंदा करता रहा है जो सीरिया और इराक़ दोनों में सक्रिय हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार