शेक्सपियर के नाटक पर पाकिस्तानी फ़िल्म

इमेज कॉपीरइट Shumaila Jaffery

कई साल बाद लाहौर की मशहूर सलाउद्दीन हवेली की दीवारें रंग-बिरंगी पतंगों से सजी हैं.

ड्रम वाले लगातार ड्रम बजा रहे हैं, नौजवान लड़के-लड़कियां पीले कपड़े पहनकर छत पर इकट्ठे हैं. लेकिन पतंग उड़ाने के लिए नहीं, बल्कि उर्दू फ़िल्म "रहम" की शूटिंग देखने के लिए.

इमेज कॉपीरइट Getty

यह फ़िल्म शेक्सपियर के नाटक "मेयर फॉर मेयर" पर आधारित है.

भारत में शेक्सपियर के नाटकों पर कई फ़िल्में बनी हैं, लेकिन लाहौर में शेक्सपियर के नाटकों पर आधारित किसी फ़िल्म की शूटिंग पहली बार हुई है.

इमेज कॉपीरइट Shumaila Jaffery

इस फ़िल्म के लेखक और निर्माता मोहम्मद जमाल हैं.

मोहम्मद जमाल के मुताबिक़ इस्लामी माहौल में शेक्सपियर के किसी नाटक पर आधारित यह पहली फ़िल्म है.

इमेज कॉपीरइट Shumaila Jaffery

जब उनसे पूछा गया कि आख़िर अपनी फ़िल्म के लिए उन्होंने शेक्सपियर के नाटकों को क्यों चुना तो उन्होंने बताया "शेक्सपियर ने जब यह नाटक लिखा था तो ब्रिटेन में धार्मिक भावना रखने वाली कट्टरपंथी सरकार बन गई थी. यह नाटक तो बहुत मशहूर नहीं हुआ लेकिन मुझे लगा कि कई संदर्भों से यह हमारे आज के हालात की तरह है. इस नाटक में दया और सहिष्णुता है, और इसी सोच की आज दुनिया को सबसे ज़्यादा ज़रूरत है".

इमेज कॉपीरइट Shumaila Jaffery

ख़ालिद बट ने फ़िल्म में नवाब साहब की भूमिका निभाई है, जो राज्यपाल के सचिव हैं. एक समय ऐसा आता है जब राज्यपाल उनके फ़ैसले लेने की क्षमता परखने के लिए अपने सारे अधिकार नवाब साहब को सौंपकर छिप जाते हैं. फिर नवाब साहब अपनी हमदर्दी के साथ कड़ी सज़ा देकर समझाने-बुझाने और चेतावनी देने के बाद अपराधियों को छोड़ देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Shumaila Jaffery

फ़िल्म में हर तरह का काम पाकिस्तानी और ब्रिटिश लोगों ने किया है. फ़िल्म की शूटिंग लाहौर में ही की गई और शेक्सपियर के दौर की कहानी लाहौर के वातावरण में ढाली गई है.

सुनील शंकर "रहम" में एंजेलो की भूमिका कर रहे हैं. सुनील ने बताया, "इस फ़िल्म में बहुत सारे मोड़ और नाटक हैं.

इमेज कॉपीरइट Shumaila Jaffery

शेक्सपियर के नाटक पर आधारित होने के बावजूद "रहम" अजनबी नहीं लगेगी, बल्कि दर्शक महसूस करेंगे कि यह हमारे अपने समाज और घरों की कहानी है".

फ़िल्म की शूटिंग पूरी हो गई है. संपादन के बाद उसे कांस फ़िल्म महोत्सव में दिखाया जाएगा. दूसरी ओर उम्मीद है कि "रहम" पाकिस्तान में ईद के मौक़े पर रिलीज़ की जाएगी.

इमेज कॉपीरइट Shumaila Jaffery

यह फ़िल्म शेक्सपियर के निधन के चार सौ साल पूरे होने के समारोह के मौक़े पर रिलीज़ होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार