शेर-बकराः ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे..

रूस के सफारी पार्क में शेर और बकरे की एक ऐसी कहानी बुनी गई जिसे देख दुनिया दंग है.

ये कहानी है अमोर शेर की और तिमोर बकरे की है. तिमोर बकरे को अमोर शेर के पास उसका भोजन बनने के लिए भेजा गया.

तीन साल से सफारी पार्क में रह रहे अमोर को हफ्ते में दो दिन खाने में जिंदा बकरा, भेड़ और खरगोश दिया जाता है.

उसे हर बार की तरह इस बार भी जिंदा बकरा दिया गया. लेकिन थोड़ी देर बाद देखा गया तो शेर के बाड़े में बकरा जिंदा था.

शेर अगले चार दिन तक भूखा रहा लेकिन उसने उस बकरे को अपना शिकार नहीं बनाया. बल्कि दोनों साथ रहने, खेलने और सोने लगे.

धीरे धीरे एक महीने से ऊपर हो चला था.

तिमोर का अपना शेल्टर है लेकिन रात को वो शेर के बगल में सोता है. और जब कभी वह वहां से जाता है, अमोर गरज़ कर उसे वापस बुलाता है. तिमोर के वापस आने के बाद ही अमोर शांत होता है.

ऐसा नहीं कि शेर के लिए बकरे को मारना कोई समस्या है बल्कि वो चाहे तो एक पल में बकरे को चट कर सकता है. लेकिन ये दोस्ती है.

बकरे ने अपनी बहादुरी दिखाई, तो शेर ने कहा, "ओके, मैं तुम्हारी हिम्मत की दाद देता हूं, तुम्हारी इज्जत करता हूं. चलो दोस्ती कर लें."

बीबीसी मास्को संवाददाता सारा रेन्सफोर्ड ने चिड़ियाघर के निदेशक दिमित्रि मेजेनसेव से बात की.

दिमित्रि बताते हैं कि अमोर और तिमोर की दोस्ती और उनकी जोड़ी चिड़ियाघर में हिट हो गई है.

जहां इंसान-इंसान को धोखा दे रहा है, जान ले रहा है वहां इन जानवरों की दोस्ती देख लोग दंग हैं.

लोग शेर और बकरे की इस दोस्ती को इतना पसंद कर रहे हैं कि अब यहां आने वालों की संख्या पहले के मुकाबले तीन गुना बढ़ गई है.

उनकी लोकप्रियता का आलम ये है कि अब उनका अपना फेसबुक पेज है. और वे इंस्टाग्राम और ट्विटर पर भी हैं.

सफारी पार्क ने इनकी एक वीडियो डायरी भी बनाई है जिसे अब तक करोड़ों लोग लाइक कर चुके हैं.

पार्क निदेशक बताते हैं कि जब लोगों की मांग पर दोनों को देखने के लिए सीसीटीवी कैमरा लगाया गया तो वेबसाइट ही बैठ गई.

उनकी बढ़ती दोस्ती के साथ ही एक आशंका भी पल रही है. क्या होगा अगर एक दिन अमोर तिमोर से मुंह फेर ले और उसे खाने की कोशिश करे?

दिमित्री कहते हैं, "फिलहाल ऐसा नहीं है इसलिए दोनों को अलग करने की कोई वजह नहीं दिखती. जब होगा देखा जाएगा."

आज भी अमोर को भोजन में जिंदा जानवर दिए जाते हैं लेकिन बकरा नहीं दिया जाता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार