प्रतिबंध हटने से ईरान को होंगे ये 7 फायदे

इमेज कॉपीरइट European Photopress Agency

ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध हटने से ईरान के इतिहास का 'सुनहरा दौर' शुरू हुआ है.

ईरानी संसद को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रतिबंध हटने के बाद ईरान के लिए आर्थिक प्रगति की नई संभावनाएं खुलेंगी और पूरी दुनिया के साथ ईरान के संबंधों का नया दौर शुरू होगा.

अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) की रिपोर्ट के बाद अमरीका, यूरोपीय संघ और संयुक्त राष्ट्र ईरान पर लगे अपने प्रतिबंध हटा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

रिपोर्ट में कहा गया है कि ईरान ने उस समझौते पर अमल किया है जिसका मक़सद उसे परमाणु हथियार बनाने से रोकना है.

प्रतिबंध हटने को ईरान के लिए बड़ी कामयाबी माना जा रहा है. एक नज़र ईरान को होने वाले फायदों पर:

  1. ईरान की लगभग 100 अरब डॉलर की सील की हुई संपत्ति उसे मिलेगी.

  2. ईरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में अपना तेल बेच पाएगा जबकि अभी वो सिर्फ़ चीन, भारत, जापान और दक्षिण कोरिया को ही अपना तेल बेच पाता है.

  3. अभी ईरान प्रति दिन 11 लाख बैरल कच्चे तेल का निर्यात करता है, प्रतिबंध हटने के बाद इसमें पांच लाख बैरल का फ़ौरी इज़ाफ़ा हो पाएगा, जबकि बाद में इसे पांच लाख बैरल तक और बढ़ाया जा सकता है.
  4. ईरान की तरफ़ से प्रतिदिन 25 लाख बैरल तक के निर्यात का लक्ष्य है और इससे कच्चे तेल के दामों में और कमी आएगी जिससे तेल सस्ता हो सकता है.
  5. कच्चे तेल की बिक्री से ईरान को मिलने वाले उसके राजस्व में अगले साल तक 10 अरब डॉलर का इज़ाफा होगा.
    इमेज कॉपीरइट AFP
    Image caption प्रतिबंधों के चलते ईरान नए विमान नहीं ख़रीद सकता था
  6. प्रतिबंध हटने के बाद ईरान की जीडीपी में 2016-17 में पांच प्रतिशत की वृद्धि होगी, जिसकी वृद्धि दर अभी लगभग शून्य है.
  7. ईरान प्रतिबंध हटने के बाद यूरोपीय विमान निर्माता कंपनी एयरबस से 114 यात्री विमान ख़रीद पाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार