कहां तेज़ी से बढ़ी है अरबपतियों की तादाद?

दुनिया में संपत्ति

दुनिया भर के नेता वैश्विक अर्थव्यवस्था पर चर्चा करने के लिए इस वक़्त दावोस में जमा हैं.

इस बैठक में दुनिया भर में तेज़ी से बढ़ रही आर्थिक असमानता ही अहम मुद्दा होगा.

स्विस बैंक क्रेडिट सुइस ने दुनिया भर की संपत्ति पर अपनी सालाना रिपोर्ट प्रकाशित की है. इसमें बैंक ने दुनिया भर के अमीर लोगों को उनके देश और क्षेत्र के मुताबिक़ चिन्हित किया है.

क्रेडिट सुइस के 2015 के आंकड़ों के मुताबिक़, ऊपर दिए गए ग्राफ़िक्स से ज़ाहिर है कि दुनिया भर के अमीर लोगों का ठिकाना कहां कहां है.

दुनिया भर की संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा अमरीका, कनाडा और यूरोप में केंद्रित है.

क्रेडिट सुइस के आंकड़ों के मुताबिक़ उत्तरी अमरीका (इसमें मैक्सिको शामिल नहीं है) में एक व्यस्क की औसत आमदनी 3.42 लाख डॉलर (क़रीब 230 करोड़ रुपये) है.

इमेज कॉपीरइट european photopress agency

इस संपत्ति का आकलन, व्यक्ति की सभी संपत्ति, बचत, ज़मीन-जायदाद के आधार पर किया गया है और इसमें क़र्ज़ भी घटाया गया है.

यह दुनिया के बाक़ी देशों के मुक़ाबले काफ़ी ज़्यादा है. यह अफ़्रीका और भारत के मुक़ाबले क़रीब 75 गुना ज़्यादा है, जबकि चीन और लातिन अमरीकी देशों की तुलना में यह 15 गुना ज़्यादा है.

यह यूरोप की तुलना में भी ढाई गुना ज़्यादा है. हालांकि इस रिपोर्ट में इन लोगों की ख़रीद क्षमता के बारे में नहीं बताया गया है.

ऐसे में इस संपत्ति से लोगों की जीवनशैली कैसे प्रभावित होगी, इसका अंदाज़ा नहीं लगाया जा सकता.

मुमकिन है, आपके पास अमरीका में काफ़ी डॉलर हों लेकिन उस पैसे से आप उतने ही उत्पाद और सुविधाएं दूसरे देश में ख़रीद पाएं, ये ज़रूरी नहीं.

दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में रियल एस्टेट की क़ीमतों में काफ़ी अंतर है, लिहाज़ा बड़े अंतर की एक वजह यह भी हो सकती है.

वैसे आंकड़ों में औसत संपत्ति का आकलन है तो इससे ये ज़ाहिर नहीं होता है कि आमलोग एकसमान अमीर होंगे.

बहुत ज़्यादा अमीर लोगों के पास बाक़ी की तुलना में ज़्यादा पैसा हो सकता है. यह दुनिया की एक फ़ीसदी आबादी है, जिसके पास दुनिया की 99 फ़ीसदी आबादी से ज़्यादा पैसा है.

बहरहाल, इस रिपोर्ट में अधिक अमीर लोगों के बारे में आकलन है, ये लोग कहां रहते हैं.

दुनिया के सबसे ज़्यादा अमीर लोग अमरीका में रहते हैं. इसके बाद ब्रिटेन, जापान, फ्रांस, जर्मनी और चीन का नंबर आता है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

इटली सातवें, कनाडा आठवें, ऑस्ट्रेलिया नौवें और स्विटज़रलैंड दसवें पायदान पर हैं.

क्रेडिट सुइस के आंकड़े ये भी बताते हैं कि ज़्यादा अमीर लोगों की तादाद चीन में 19 फ़ीसदी की दर से बढ़ रही है, जबकि उत्तरी अमरीका में यह 20 फ़ीसदी की रफ़्तार से बढ़ रही है.

जबकि ब्रिटेन में यह सबसे तेज़ 25 फ़ीसदी की रफ़्तार से बढ़ रही है. इसके अलावा जापान और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में अत्यधिक अमीरों की संख्या कम हो रही है.

चीन में जिस रफ़्तार से अरबपतियों की संख्या बढ़ रही है, उस हिसाब से जल्दी ही वह दुनिया के सबसे बड़े वित्तीय क्रेंद्र के तौर पर उभर सकता है, लंदन और न्यूयार्क की तरह.

हालांकि यहां रियल एस्टेट के बाज़ार पर काफ़ी कुछ निर्भर कर रहा है. उदाहरण के लिए अगर आपके पास लंदन में बिना क़र्ज़ का घर है, तो क्रेडिट सुइस के अनुसार आप बहुत ज़्यादा अमीर लोगों की कैटेगरी में आते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार