गूगल ने एपल को दिए एक अरब डॉलर

इमेज कॉपीरइट EPA

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ गूगल ने आईओएस डिवाइस पर डिफ़ॉल्ट विकल्प रखने के लिए प्रतिद्वंद्वी कंपनी एपल को एक अरब डॉलर का भुगतान किया है.

गूगल के ख़िलाफ़ एक कॉपीराइट मुक़दमे में अदालत की कार्यवाही में इसका ज़िक्र है कि सिलिकन वैली कंपनियों के बीच यह सौदा हुआ.

इमेज कॉपीरइट Reuters

समझौते में कहा गया है कि गूगल आईओएस डिवाइस के ज़रिए मिले मुनाफ़े का 34 फ़ीसदी हिस्सा एपल को देगा.

हालांकि दोनों कंपनियों ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. बीबीसी को भी स्वतंत्र रूप से इस दावे की पुष्टि नहीं हुई है.

ब्लूमबर्ग के मुताबिक़ संबंधित दस्तावेज़ अब वेब से हटा दिया गया है.

ओरेकल कॉर्प की ओर से किए गए मुक़दमे के दौरान कंपनी ने दावा किया कि गूगल ने एंड्रॉयड विकसित करने के लिए उसके जावा सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल किया, लेकिन इसका भुगतान नहीं किया.

इमेज कॉपीरइट Getty

मार्गेन स्टनेली फ़र्म के मुताबिक़ एक अरब डॉलर की बात तो पुरानी है पर ऐसा पहली बार हुआ है कि अदालत के दस्तावेजों में इसका ज़िक्र हुआ है.

कंसल्टेंसी फ़र्म लेविस के तकनीकी विश्लेषक क्रीस ग्रीन ने बीबीसी को बताया कि पसंद का ब्राउज़र होना या डिवाइस पर सर्च इंजन दोनों ही लाभकारी व्यवसाय हैं.

हालांकि वो यह भी मानते हैं कि सॉफ़्टवेयर और डिवाइस पर दूसरी सेवाएं लेने के लिए कंपनियों के बीच हार्डवेयर विक्रेताओं को फ़ीस का भुगतान करना एक सामान्य बात है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार