ज़ीका वायरस ने ओबामा की भी चिंता बढ़ाई

इमेज कॉपीरइट Getty

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि ज़ीका वायरस के ख़िलाफ तत्काल क़दम उठाने की ज़रूरत है.

इस वायरस से पीड़ित गर्भवती महिलाओं से जन्म लेने वाले शिशुओं का मस्तिष्क पूरी तरह विकसित नहीं हो पाता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि ये वायरस दक्षिण और उत्तर अमरीकी महाद्वीपों के लगभग सभी क्षेत्रों में फैल सकता है.

ये पहले ही 21 कैरेबियाई, उत्तर और दक्षिण अमरीकी देशों में फैल चुका है. इस वायरस के लक्षणों में बुख़ार होना, कनजंक्टिवाइटिस और सिरदर्द शामिल हैं.

डॉक्टर इस बात को लेकर सबसे ज़्यादा चिंतित हैं कि ये वायरस गर्भ में पल रहे बच्चों को भी नुक़सान पहुंचा सकता है.

ब्राज़ील में इस वायरस का असर सबसे ज़्यादा देखने को मिल रहा है जहां शिशु सामान्य से छोटे सिरों के साथ पैदा हो रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

वहीं कई मध्य और दक्षिण अमरीकी देशों में महिलाओं से कहा जा रहा है कि वो अभी गर्भवती न हों.

ब्राज़ील में अक्तूबर से अब तक इस वायरस से जुड़े सबसे ज़्यादा 3,893 मामले सामने आए हैं. इसी अवधि में एक साल पहले कुल 160 ऐसे मामले दर्ज किए गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार