तुर्क पत्रकारों के लिए सज़ा की मांग

  • 28 जनवरी 2016
तुर्क पत्रकार इमेज कॉपीरइट AP

दो तुर्क पत्रकारों के लिए कथित सरकार विरोधी रिपोर्टिंग के आरोप में उम्र कैद की सज़ा मांगी गई है.

कमहुर्रियत अख़बार के प्रमुख संपादक कान दुंदार और अंकारा प्रतिनिधि एर्देन गुल पर जासूसी के आरोप लगाए गए हैं.

अख़बार की एक कहानी में आरोप लगाया गया था कि तुर्की की सरकार सीरिया में इस्लामी चरमपंथियों को हथियार दे रही है.

अभियोजकों ने इन पत्रकारों पर अमरीका में बसे एक मौलवी के साथ मिल कर सरकार को बदनाम करने का आरोप लगाया है.

इन पत्रकारों के लिए कठिन सज़ा की मांग से प्रेस की आज़ादी पर चिंता जताई गई है.

मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच ने कहा है कि दोनों, ''पत्रकार के रूप में अपना काम कर रहे थे, उससे ज़्यादा कुछ नहीं.’’

पिछली मई में कमहुर्रियत ने अपनी वीडियो रिपोर्ट जारी की थी जिसमें पुलिस को ट्रकों में हथियार मिलते दिखाया गया था और इन्हें तुर्की की खुफिया सेवाओं से जोड़ा गया था.

तुर्क अधिकारियों ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि सीरियाई सीमा पर पकड़े गए ये ट्रक वास्तव में सीरियाई तुर्कमेन अल्पसंख्यकों के लिए मदद ले कर आ रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार