हिलेरी के ईमेल 'टॉप सीक्रेट' घोषित

  • 30 जनवरी 2016
हिलेरी क्लिंटन, पूर्व अमरीकी गृह मंत्री इमेज कॉपीरइट Getty

व्हाइट हाउस ने कहा है कि हिलेरी क्लिंटन के असुरक्षित निजी सर्वर में एक दर्जन से ज़्यादा ईमेल 'टॉप सीक्रेट' थे.

इसका अर्थ ये कि ये ईमेल अमरीका की सबसे गोपनीय फ़ाइलोें में से थे.

अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा है कि ये दस्तावेज़ जिस समय भेजे गए थे, तब क्लासीफ़ाइड यानी गोपनीय नहीं थे.

क्लिंटन राष्ट्रपति चुनाव के लिए डेमोक्रेट उम्मीदवार बनने की दौड़ में शामिल हैं. गोपनीय ईमेल के सार्वजनिक होने का मुद्दा उनके प्रचार अभियान पर छाया है.

हिलेरी क्लिंटन ने माना है कि अमरीकी विदेश मंत्री रहते हुए उन्होंने सरकारी ईमेल की बजाय अपने न्यूयॉर्क स्थित घर में निजी सर्वर के जरिए निजी ईमेल का इस्तेमाल कर ग़लती की थी.

इमेज कॉपीरइट AP

विदेश मंत्रालय का कहना है कि ये मैसेज 'टॉप सीक्रेट' इसलिए चिह्नित किए गए थे कि इनके सामने आने पर ये राष्ट्र की सुरक्षा के लिए 'बेहद गंभीर' हो सकते थे.

ख़ुफ़िया अधिकारियों ने समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि ईमेल के 37 पेज 'स्पेशल एसेज़ प्रोग्राम' के तहत थे. इनमें ड्रोन हमलों और ख़ुफ़िया जानकारी इकट्ठा करने से जुड़े कार्यक्रमों की जानकारियां थीं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

क्लिंटन के विरोधी उन पर अमरीकी सुरक्षा को ख़तरे में डालने का आरोप लगाते रहे हैं.

विदेश मंत्रालय ने अब तक क्लिंटन के निजी सर्वर के 7,000 पेजों को सार्वजनिक नहीं किया है.

अधिकारियों का कहना है कि वे 29 फ़रवरी को मैसेज की अंतिम किस्त जारी कर देंगे.

उस समय तक आयोवा और न्यू हैंपशायर में उम्मीदवार चुनने के लिए डेमोक्रेट पार्टी की बैठक यानी कॉकस और प्राइमरी चुनाव हो जाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार