रोज़ाना लाखों पैकेट कैसे भेजता है अमेज़न?

  • 3 फरवरी 2016
ब्रिटेन स्थित अमेज़न का वेअरहाउस इमेज कॉपीरइट AMAZON

दुनिया के बड़े ऑनलाइन रीटेलर्स में से एक अमेज़न रोज़ाना लाखों पैकेट दुनिया के कोने कोने में पहुँचाता है.

इंटरनेट के शुरुआती दौर में 1994 में शुरु हुए अमेज़न की कीमत आज लगभग 247 अरब डॉलर है. लेकिन ऐसा नहीं कि कंपनी बहुत बड़ा मुनाफ़ा कमा रही है.

कंपनी के चलते रहने का राज़ है कि प्रति आइटम या पार्सल कीमत कम रखी जाती है, ख़ासी एफ़िश्यंसी के साथ बड़ी तादाद में सामान बेचा जाता है.

कुल मिलाकर मुनाफ़ा कमाया जाता है लेकिन आख़िर ये सब होता कैसे है और इसके पीछे का बंदोबस्त क्या?

दरअसल इसका राज़ है स्मार्ट कंप्यूटर कोड और ज़्यादा से ज़्यादा मशीनों का इस्तेमाल..

इमेज कॉपीरइट REX

इसका जवाब ढूंढने के लिए बीबीसी फ़्यूचर की टीम ने इंग्लैंड के हेमल हेम्पस्टीड में अमेज़न के वेअरहाउस यानी भंडारघर में कामकाज का तरीका देखा.

इमेज कॉपीरइट REX

लगभग 40 हज़ार वर्ग मीटर में फैले इस भंडारघर में 'पैलेट लैंड' जैसा एरिया है जहाँ बड़ा सामान रखा जाता है और 'द टॉवर' जैसे सैकड़ों शेल्फ़ हैं जहां दूसरा सामान रखा जाता है. यहां एक के ऊपर एक पैकेट रखे होते हैं लेकिन ये ज़रूरी नहीं कि एक तरह की चीज एक ही जगह रखी हो.

इमेज कॉपीरइट REX

यहां चीजों को चुनने और इसे भेजने में स्कैनर और सॉफ़्टवेअर की मुख्य भूमिका है.

इमेज कॉपीरइट REX

आप ऑर्डर भेजते हैं तो सबसे पहले सॉफ़्टवेअर यह पता लगाता है कि वह चीज कहां रखी हुई है. यह सॉफ़्टवेअर किसी कर्मचारी को बताता है कि वो चीज़ कहां रखी है.

वो कर्मचारी उक्त शेल्फ़ तक पहुँचता है, पैकेट उठाता है, फिर हाथ में उठाए स्कैनर से स्कैन करता है. स्कैनर तय करता है कि वो सही पैकेट है, उस पर पता सही है या नहीं, और फिर उस पर ग्राहक का नाम, पते की पर्ची चिपका देता है.

इमेज कॉपीरइट REX

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक इन्वेस्टीगेशन से पता चला कि डेटा का अमेज़न के काम में कितना महत्व है. यहा तक कि कर्मचारियों की परफ़ॉर्मेंस भी लगातार कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर के ज़रिए चेक की जाती है. इस सॉफ़्टवेयर का नाम है - एनी टाइम फ़ीडबैक और इसके ज़रिए कर्मचारी एक दूसरी के काम की प्रशंसा और आलोचना भी कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट REX

बीबीसी के पैनोर्मा प्रोग्राम ने रिपोर्ट किया है कि कर्मचारियों से ख़ासी कुशलता की उम्मीद की जाती है. हाथ में उठाने वाला स्कैनर यहां तक रिकॉर्ड करता है कि कर्मचारी कितने सैकेंड में पैकेट उठाता है और दो पैकेट उठाने के बीच का समय कितना है.

हेमल हेम्पस्टीडके केंद्र में एक कर्मचारी बताता है कि वह दिन में लगभग 1000 पैकेट उठाता है.

अमेज़न ये मानता है कि उसके इस एफ़िश्यंट ऑपरेशन में लोगों का काम करना कमज़ोर कड़ी है.

नए कंप्यूटर सिस्टम बनाए जा रहे हैं जो ख़ुद ही शेल्फ़ से चीज़ं को उठाकर पैकेज भी कर पाएँगे.

अमेज़न की ही एक कंपनी किवा सिस्टम्स हाई-टेक वेअरहाउस रोबोटिक्स के क्षेत्र में काम करती है और उच्च तकनीक के साफ़्टवेअर बनाती है.

इमेज कॉपीरइट REX

एक और कंपनी जिसका नाम सिक है, सिक इंस्पेक्टर 30 नाम के उपकरण बना रही है जिनसे वेअरहाउस में मनुष्य के काम करने की ज़रूरत नहीं रहेगी.

अमेज़न की योजना के मुताबिक जब पैकेट चुनने का काम अब रोबोट पर छोड़ा जाएगा तो प्रति पैकेट 10 सैकेंड बचेंगे जिससे हर घंटे में 15 प्रतिशत अधिक पैकेट उठाए जा सकेंगे.

इमेज कॉपीरइट REX

फिलहाल होने ये जा रहा है कि सामान से लदे शेल्फ़ शेल्फ़ ख़ुद कर्मचारी तक पंहुचेगे और वह बस उस सामान को उठा कर आगे का काम करेगा. इससे समय बचेगा और ग़लती की गुंजाइश भी कम होगी.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें, जो बीबीसी फ़्यूचर पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार