लीबिया में 'शरण ले रहे हैं' आईएस के बड़े नेता

इमेज कॉपीरइट AP

लीबिया के खुफ़िया अधिकारियों का कहना है कि पिछले कुछ महीनों में ख़ुद को चरमपंथी संगठन बताने वाले इस्लामिक स्टेट (आईएस) के कई बड़े नेता ईराक़ और सीरिया से आकर लीबिया में शरण ले रहे हैं.

अधिकारियों ने बीबीसी न्यूज़नाइट को बताया कि कई विदेशी लड़ाके लीबिया के सिरते शहर पहुंच रहे हैं. लीबिया में आईएस के बढ़ते खतरे पर 23 देशों के प्रतिनिधि वहां चर्चा करने के लिए मौजूद हैं.

आईएस ने पिछले साल सिरते पर कब्ज़ा कर लिया था. लीबिया में प्रतिद्वंद्वी प्रशासन के बीच असहमति होने की वजह से आईएस के ख़िलाफ़ कोई सख़्त कार्रवाई नहीं की जा सकी है.

सिरते पूर्व लीबियाई नेता मुअम्मर गद्दाफी का गृहनगर था. माना जाता है कि आईएस को गद्दाफी के कुछ वाफादारों की तरफ से मदद मिल रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

मिसराता में ख़ुफिया विभाग के प्रमुख इस्माइल शुक्री ने बताया, "आईएस में 70 प्रतिशत विदेशी लड़ाके हैं. इसमें सबसे ज़्यादा टूनिशिया, उसके बाद मिस्र, सुडान और अलजीरिया से लड़ाके शामिल हैं."

वो कहते हैं, "इसके साथ ही ईराकी और सीरिया से लड़ाके भी इसमें शामिल हो रहे हैं. ईराक के लड़ाकुओं में अधिकतर सद्दाम हुसैन की भंग की गई सेना के सैनिक शामिल हैं."

उनके अनुसार, "आईएस के साथ लंबे वक़्त से जुड़े लड़ाके लीबिया को सुरक्षित मानते हैं इसलिए वो यहां शरण ले रहे हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार