सुरक्षा परिषद में उत्तर कोरिया की भर्त्सना

उत्तर कोरिया का रॉकेट इमेज कॉपीरइट Getty

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने लंबी दूरी के राकेट प्रक्षेपण के लिए उत्तर कोरिया की भर्त्सना की है.

न्यूयॉर्क में एक आपात बैठक के बाद सुरक्षा परिषद ने कहा कि उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ नए प्रतिबंधों का प्रस्ताव जल्द ही पारित किया जाएगा.

बैठक के बाद संयुक्त राष्ट्र में अमरीकी प्रतिनिधि समंथा पॉवर ने कहा कि अमरीका सुनिश्चित करेगा कि सुरक्षा परिषद उत्तर कोरिया पर गंभीर प्रतिबंध लगाए.

इमेज कॉपीरइट AFP

जापान ने भी अमरीका का समर्थन करते हुए कहा कि उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ कड़े प्रतिबंध लगाने होंगे.

संयुक्त राष्ट्र में जापान के प्रतिनिधि मोटोहिड योशिकावा ने कहा, ''मौजूदा प्रतिबंध उत्तर कोरिया को परमाणु हथियार बनाने से नहीं रोक पाए हैं.''

सुरक्षा परिषद की यह बैठक दक्षिण कोरिया, जापान और अमरीका के आग्रह पर बुलाई गई है ताकि उत्तर कोरिया को रॉकेट प्रक्षेपण के लिए सामूहिक रूप से जबाव दिया जा सके.

इमेज कॉपीरइट EPA

उत्तर कोरिया का कहना है कि उसने एक उपग्रह को कक्षा में स्थापित करने के लिए राकेट छोड़ा है, लेकिन आलोचकों का कहना है कि इसका असल मकसद बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण करना है.

रविवार को रॉकेट प्रक्षेपण से पहले उत्तर कोरिया ने कुछ हफ्ते पहले चौथी बार परमाणु परीक्षण किया था और ये दोनों ही कार्रवाई संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों का उल्लंघन करती हैं.

बीजिंग में मौजूद बीबीसी संवाददाता जॉन सुडवर्थ का कहना है कि उत्तर कोरिया पहले भी इस तरह के परीक्षण करता रहा है और चीन इसे उकसावे वाली कार्रवाई मानता है.

इमेज कॉपीरइट AFP Getty

वहीं नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन (नैटो) ने उत्तर कोरिया की इस कार्रवाई को संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का 'खुला उल्लंघन' बताया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार