हृदय प्रतिरोपण के 33 साल बाद निधन

इमेज कॉपीरइट McCafferty family

हृदय प्रतिरोपण के बाद सबसे लंबे समय तक जीवित रहने वाले व्यक्ति का निधन हो गया है.

33 साल पहले 20 अक्तूबर 1982 को ब्रिटेन में मिडिलसेक्स के हेयरफील्ड अस्पताल में जॉन मैकार्फ़टी का हृदय प्रतिरोपण हुआ था.

अस्पताल ने उनसे कहा था कि इस प्रतिरोपण के बाद वे सिर्फ़ पाँच साल तक ही जीवित रह सकते हैं.

उनकी विधवा एन ने कहा, "प्रतिरोपण के बाद पिछले 30 सालों से हम साथ थे और वह समय शानदार था. हम दुनिया भर में घूमे."

इस दंपती ने अक्तूबर में अपनी शादी की 50वीं वर्षगांठ मनाई थी.

इमेज कॉपीरइट Alexander P KappGeograph

बकिंघमशर के न्यूपोर्ट पेगनल के रहने वाले 73 वर्षीय मैकार्फ़टी का निधन मिल्टन किंज हॉस्पिटल में हुआ.

2013 में गिनिज वर्ल्ड ऑफ रिकॉर्ड्स में हृदय प्रतिरोपण के बाद सबसे लंबे समय तक जीवित रहने वाले के रूप में उनका नाम दर्ज हुआ था.

उस मौके पर उन्होंने कहा था कि वे इस वर्ल्ड रिकॉर्ड को एक प्रेरणा मानते है. ये उन सब लोगों के लिए जो हृदय प्रतिरोपण कराने का इंतज़ार कर रहे हैं.

जब वह 39 साल के थे तब उन्हें दिल की बीमारी का पता चला था.

1967 में दक्षिण अफ़्रीका में पहली बार सफलतापूर्वक हृदय प्रतिरोपण किया गया था.

हालांकि इसके प्रतिरोपण कराने वाले लुइस वाशकैंस्की का निधन ट्रांस्प्लांट के 18 दिन बाद ही हो गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार