''मुझे एक यौन वस्तु की तरह देखा गया''

इमेज कॉपीरइट

ईरान के अंग्रेज़ी न्यूज चैनल प्रेस टीवी की पूर्व न्यूज़रीडर शीना शिरानी ने साहस के साथ अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न को उजागर किया है.

उनके बोलने के बाद दूसरी ईरानी महिलाओं को भी अपनी चुप्पी तोड़ने और अनुभव बांटने का साहस मिला है.

पारंपरिक तौर पर अब तक ईरान में महिलाओं की ऐसी समस्याओं पर कोई ध्यान नहीं दिया जाता.

उन्होंने कहा है कि उन्होंने लंबे समय तक अपने दो मैनेजरों को सहा है. अपने आरोपों की पुष्टि के लिए उन्होंने फ़ोन पर हुई बातचीत की रिकॉडिंग को ऑनलाइन पोस्ट कर दिया.

जिसमें शीना के बॉस हामिद रेज़ा इमादी लगातार उनसे यौन कृपादृष्टि रखने की बात कह रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसके बाद शिरानी ने अपनी नौकरी और देश दोनों छोड़ दिए. अब तक इस रिकॉर्डिंग को एक लाख 20 हज़ार बार लोग सुन चुके हैं.

शिरानी ने बाद में इमादी का वह संदेश भी शेयर किया, जिसमें उन्होंने फ़ोन रिकॉर्डिंग वापस लेने की बात कही है.

दूसरी तरफ प्रेस टीवी ने कहा है कि जब तक जांच चल रही है उसने दो कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है.

माना जा रहा है कि जिन दो लोगों को निलंबित किया गया है, उनमें एक इमादी है.

ईरान की एक सरकारी समाचार एजेंसी के मुताबिक़ प्रेस टीवी ने अपने बयान में कहा है कि हालांकि ऑडियो फ़ाइल क़ानूनी तौर पर स्वीकार्य करने योग्य नहीं है और न इसकी कोई शिकायत दर्ज कराई गई है, लेकिन मामले की गंभीरता देखते हुए इसकी जांच कराई जा रही है.

बयान में यह भी कहा है कि ऑडियो फ़ाइल राजनीतिक कारणों से उन लोगों ने तैयार की है जो ईरानी व्यवस्था का विरोध करते हैं.

इमेज कॉपीरइट FacebookSheena Shirani

प्रेस टीवी के मुताबिक़ यह मामला इसलिए थोड़ा संदिग्ध लगता है क्योंकि शिरानी ने कोई आपराधिक शिकायत नहीं दर्ज कराई है.

वॉयस ऑफ़ अमेरिका की ईरानी सर्विस को अपनी प्रतिक्रिया में शिरानी ने कहा है कि जिनके ख़िलाफ़ उन्हें शिकायत करनी थी वही अभियुक्त थे.

उन्होंने कहा कि ईरानी समाज में यदि आप कमज़ोर और शक्तिशाली लोगों के साथ मज़बूत संबंध नहीं रखते तो आप अपना नुक़सान करते हैं. उनका कहना है कि अगर आप एक औरत हैं और एकल माँ है तो आपका इस समाज में कोई मान नहीं है.

शिरानी ने शिकायत की है कि उत्पीड़न का व्यापक हिस्सा यह था कि कुछ मिनट की देरी होने पर सज़ा दी गई और सरकारी संगठनों में आवश्यक सख़्त ड्रेस कोड का पालन न करने के लिए जुर्माना लगाया गया.

इमेज कॉपीरइट facebook

उनका कहना है, ''मुझे एक पेशेवर नहीं बल्कि एक यौन वस्तु की तरह देखा गया.''

शिरानी के समर्थन में कई लोग आगे आए हैं. फ़ेसबुक पर एक पोस्ट में कहा गया कि उनका साहस प्रशंसनीय है. सभी महिलाओं को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए.

एक महिला ने ट्वीट कर कहा है - मैं ईरान के एक मंत्रालय में काम करती हूँ और लगातार मेरा उत्पीड़न हो रहा है. शिरानी का ऑडियो सुनकर लगा यह मेरी कहानी है.

हालांकि फ़ेसबुक पर उनके विरोध में भी आवाज़ें उठी हैं.

एक महिला ने अपनी पोस्ट में लिखा कि यह रिकॉर्डिंग व्यक्तिगत लाभ के लिए है. उसने कहा कि उन्हें विश्वास है कि ज़रूर शिरानी ने पहले अपने बॉस को प्रस्ताव देने के लिए संकेत दिया होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार