संदिग्ध के फ़ोन का डेटा देने से एपल का इंकार

टिम कुक इमेज कॉपीरइट AP

ऐपल कंपनी अमरीका के सैन बर्नारडिनो गोलीबारी कांड के संदिग्ध सैयद रिज़वान फ़ारूक़ के आई-फ़ोन के डेटा तक पहुंचने में मदद करने के अदालत के आदेश को चुनौती देगी.

दरअसल अदालत ने फ़ारूक़ के आईफ़ोन के सिक्यूरिटी सॉफ़्टवेयर को तोड़ने में अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी एफ़बीआई की मदद करने के लिए कंपनी को आदेश दिया था.

कैलिफ़ोर्निया के सैन बर्नारडिनो में पिछले साल पांच दिसंबर को सैयद फ़ारूक़ और उनकी पत्नी तशफ़ीन मलिक ने गोलीबारी करके 14 लोगों की हत्या कर दी थी.

इमेज कॉपीरइट AP

एफ़बीआई का कहना है कि सैन बर्नारडिनो गोलीबारी कांड में संदिग्ध सैयद रिज़वान फ़ारूक़ के आई फ़ोन में ज़रूरी जानकारी मिल सकती है.

ऐपल के मुख्य कार्यकारी टिम कुक ने कहा, "अमरीकी सरकार ने ऐपल से पहली बार ऐसा क़दम उठाने की मांग की है जिससे उपभोक्ताओं की सुरक्षा के लिए ख़तरा पैदा होता है."

सितंबर 2014 से ऐपल के डिवाइसेज़ का टेक्सट मैसेज और फ़ोटो जैसा डेटा सुरक्षित रखा हुआ है.

ऐपल के फ़ोन को लॉक किया गया है तो यूज़र पासकोस से उसे खोला जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

अगर डेटा तक पहुंचने के लिए दस बार ग़लत कोड का इस्तेमाल कर लिया जाए तो सारा डेटा अपने-आप ही डिलीट हो जाता है, लेकिन इसके लिए आई-फ़ोन में इसके ऑप्शन का चयन ज़रूरी है.

ऐपल ने कहा है कि एडवर्ड स्नोडेन ने अमरीकी सरकार के डेटा को सार्वजनिक कर दिया था इसके बाद ऐपल के कर्मचारी भी किसी डेटा तक नहीं पहुंच सकते.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार