दक्षिणी चीन सागर में चीन ने तानीं मिसाइलें

इमेज कॉपीरइट Google

चीन ने दक्षिणी चीन सागर के विवादित द्वीप में सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलें तैनात कर दी है.

फॉक्स न्यूज़ की 14 फ़रवरी को ली गई सैटेलाइट तस्वीरों से ये पता चला है. फॉक्स न्यूज़ ने ये तस्वीरें प्रकाशित की हैं. इन तस्वीरों में वूडी या योंगशिंग द्वीप पर आठ मिसाइल लॉन्चर की दो बैटरी और रडॉर सिस्टम दिख रहे हैं.

फॉक्स न्यूज़ को दिए बयान में अमरीका के रक्षा अधिकारी कह रहे हैं कि ये मिसाइलें दो सौ किलोमीटर तक मार करने वाली एचक्यू वायु रक्षा प्रणाली जैसी दिखती हैं.

रायटर्स के मुताबिक़, अमरीकी अधिकारियों ने मिसाइल होने की पुष्टि की. इस द्वीप पर अपना दावा करने वाले ताइवान ने भी इसकी पुष्टि की.

हालांकि चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने इन रिपोर्टों को पश्चिमी मीडिया की खोज क़रार दिया है.

ताइवान का रक्षा मंत्रालय ये नहीं बता पाया कि कितनी मिसाइलें लगाई गई हैं और कब. लेकिन उसने बीबीसी को बताया कि इनमें नागरिकों और सेना के हवाई जहाज़ों पर मार करने की क्षमता है.

इस मिसाइल की मौजूदगी दक्षिणी चीन सागर के विवाद को निसंदेह बढ़ावा देगी.

ये ख़बर दक्षिणी पूर्वी एशिया में वाशिंगटन डीसी के नेताओं के बैठक के ख़त्म होने के बाद आई है. इस बैठक में दक्षिणी चीन सागर विवाद का विषय रहा.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि सदस्यों ने इस इलाक़े में नए निर्माण, भूमि क़ब्ज़े और सेना की तैनाती रोकने और तनाव कम करने के लिए लिए ठोस क़दम उठाने पर चर्चा की.

पेंटागन के प्रवक्ता ने बीबीसी से कहा की यूएस इंटेलीजेंस के मामलों पर टिप्पणी नहीं कर सकता, लेकिन इन मुद्दों पर बारीकी से नज़र बनाए हैं.

चीन इस क्षेत्र की भूमि पर क़ब्ज़ा जमाने के लिए तेज़ी से कार्य कर रहा है. और उसका कहना है कि ये वैध है और नागरिक उद्देश्य के लिए है.

लेकिन क्षेत्र के अन्य दावेदार देश चीन के इस क़दम से ग़ुस्से में हैं. इस क्षेत्र में सेना तैनात करने को लेकर बढ़ती प्रतिस्पर्धा भी चिंता का विषय है.

इमेज कॉपीरइट XINHUA

चीन द्वारा योंगशिंग कहे जाने वाले इस वूडी आइलैंड की नवीनतम तस्वीरें इमेजसेट इंटरनेशनल ने लीं.

इन तस्वीरों में समुद्री तट के एक हिस्से का क्लोज़ अप सा दिखता है. जो दो मिसाइल बैटरी की तरफ़ इशारा करता है. प्रत्येक बैटरी चार लांचर्स और दो कंट्रोल वाहनों से बनी है.

रिपोर्ट के मुताबिक़ दो लांचर्स तैनात देखे जा सकते हैं. एक अन्य तस्वीर में तीन फ़रवरी को ये समुद्री तट ख़ाली दिखता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार