जापान की जनसंख्या में 10 लाख की कमी

  • 27 फरवरी 2016
जापान का बुजुर्ग व्यक्ति इमेज कॉपीरइट AFP

जापान में बीते पांच साल में जनसंख्या में करीब 10 लाख की कमी आई है. जनगणना के ताज़ा आंकड़ों से ये जानकारी मिली है.

जापान में साल 1920 के बाद से जनसंख्या में पहली बार कमी दर्ज की गई है.

बीते साल अक्तूबर में जापान की जनसंख्या 12 करोड़ 71 लाख थी. पिछली बार हुई जनगणना के मुक़ाबले इस बार जनसंख्या में 0.7 फीसदी की कमी आई है.

जनसंख्या विशेषज्ञों ने काफी पहले ही इस कमी को लेकर अनुमान जाहिर किया था. इसकी वजह जापान में गिरती जन्म दर और आप्रवासन की कमी थी.

जापान में बुजुर्गों की संख्या में तेज़ी से इजाफा हो रहा है. इसकी वजह से आर्थिक प्रगति की रफ्तार कम हुई है और स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर ख़र्च में बढ़ोतरी हुई है.

इमेज कॉपीरइट EPA

आंतरिक मामलों के मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक़ जापान में पिछली बार हुई जनगणना के मुकाबले अब 9 लाख 47 हज़ार लोग कम हैं. पिछली बार जनगणना 2010 में हुई थी.

राजधानी टोक्यो समेत सिर्फ़ आठ प्रांतों में जनसंख्या में इजाफा हुआ है. बाकी 39 प्रांतों में गिरावट दर्ज की गई है.

जनसंख्या में सबसे ज़्यादा कमी फुकुशिमा में दर्ज हुई है. जहां पिछली बार के मुक़ाबले आबादी में 1 लाख 15 हज़ार की कमी आई है.

शोधकर्ताओं का अनुमान है जनसंख्या में कामकाजी लोगों यानी युवाओं की संख्या में भी तेज़ी से कमी हो रही है.

सरकार के अनुमान के मुताबिक़ साल 2060 तक जापान में 40 फीसदी लोग 65 साल या उससे अधिक उम्र के होंगे.

जापान में हालिया दशकों में जनसंख्या वृद्धि दर में तेज़ी से कमी हुई है. पिछली बार की जनगणना से जाहिर हुआ था कि वृद्धि दर पूरी तरह से थम गई है. प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने प्रति महिला जन्म दर को 1.4 से बढ़ाकर 1.8 बच्चों पर लाने को प्रथामिकता में शामिल किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार