कौन थे पाक पंजाब के गवर्नर सलमान तासीर?

सलमान तासीर इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सलमान तासीर खुले विचारों के लिए जाने जाते थे.

पाकिस्तान पंजाब के गवर्नर सलमान तासीर को उनके सुरक्षा गार्ड मुमताज़ क़ादरी ने 2011 में गोली मार दी थी. मुमताज़ क़ादरी को सोमवार को फांसी दे दी गई.

सलमान तासीर ईश निंदा क़ानून के विरोधी थे. और हत्या के पहले वो एक ईसाई औरत को इसी क़ानून के तहत जेल होने का विरोध कर रहे थे.

तासीर राजनीति में आने से पहले एक सफल मैनेजमेंट कन्सल्टेंट रहे. उन्होंने ब्रिटेन में चार्टेड अकांउटेंसी की पढ़ाई की थी.

राजनीति में कम सफल रहे सलमान तासीर के पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के साथ रिश्ते काफी मज़बूत रहे.

पिछले एक दशक में सलमान तासीर राजनीति से दूर भी रहे और इस दौरान उन्होंने अपना ध्यान व्यवसाय पर लगाया.

सलमान तासीर ने पाकिस्तान में टेलीकॉम व्यवसाय को स्थापित किया और उसे बुलंदियों तक लेकर गए. जिसके बाद वो पाकिस्तान के रईस लोगों में शुमार होने लगे.

मुशर्रफ़ शासन के अंतिम दिनों में वो राजनिति में वापस आए और उन्होंने जरनल मुशर्रफ का राजनैतिक सलाहकार बनने की पेशकश की.

उन्हे राजनीति में बड़ी सफलता तब मिली जब 2007 में उन्हें केन्द्रीय मंत्री बनाया गया और उसके अगले ही साल उन्हें पंजाब प्रांत का गवर्नर बना दिया गया.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मुमताज़ क़ादरी की तैनाती सलमान तासीर के सुरक्षा गार्डों में थी.

इसके बाद भी सरकार ने उन्हें पंजाब के गवर्नर के तौर पर बरक़रार रखा.

एक छात्र के तौर पर उन्होंने पाकिस्तान के पूर्व प्रधानंमत्री जुल्फ़िक़ार अली भुट्टो को जेल भेजे जाने और फांसी दिए जाने का विरोध भी किया था.

वो पहली बार 1988 में राज्य की असेंबली में कुछ समय के लिए चुने गए.

विवादों से दूर ना रहने वाले सलमान तासीर उस वक़्त एक बड़े विवाद के केन्द्र में आ गए जब उन्होंने एक पाकिस्तानी ईसाई महिला आसिया बीबी की तरफ़दारी की.

आसिया बीबी को ईश-निंदा के आरोप में मौत की सज़ा सुनाई गई थी.

आसिया बीबी से मिलने के लिए सलमान तासीर जेल भी गए थे.

कहा जाता है कि उनकी मौत का कारण भी ईश निंदा क़ानून के प्रति उनका विरोधी रवैया रहा.

पाकिस्तान के ईश निंदा क़ानून के बारे में कई बार ये बात सामने आ चुकी है कि इसका इस्तेमाल विरोधियों को फंसाने और अल्पसंख्यकों पर अत्याचार के लिए होता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार