'वो मेरी ही उम्र का था, जिसने रेप किया'

अलीसिया कोज़ीकिएविच इमेज कॉपीरइट Getty

अलीसिया कोज़ीकिएविच सिर्फ़ 13 साल की थीं, जब वे पिट्सबर्ग के अपने घर से बाहर निकलीं, उस शख़्स से मिलने जिससे वे ऑनलाइन चैट किया करती थीं.

उसके बाद जो कुछ हुआ, वह किसी बुरे सपने से कम नहीं था.

आज वे 27 साल की हैं और अपनी कहानी बता रही हैं ताकि दूसरों के साथ वैसा न हो. अलीसिया की कहानी, उन्हीं की ज़ुबानी -

यह 2002 का नया साल था. मेरी मां ने पोर्क और सॉरक्रॉत का बेहद स्वादिष्ट खाना बनाया था. मेरी दादी, मां, पिता, भाई और उसकी गर्लफ्रेंड, हम सबने मिलकर खाना खाया. उसके बाद मैं बाहर निकल गई थी.

मुझे अच्छी तरह याद है कि मैं सड़क पर थी, चारों तरफ़ बर्फ़ ही बर्फ़ थी. बिल्कुल सन्नाटा छाया था. मैंने अपने आप से कहा, मैं यह क्या कर रही हूँ.

इमेज कॉपीरइट Alicia Kozakiewicz
Image caption अपहरण के समय अलीसिया कोज़ीकिएविच

किसी ने मेरा नाम लेकर मुझे बुलाया. थोड़ी देर बाद मैं एक कार में बैठी थी.

मेरा एक स्क्रीन नाम था और मैं अपने दोस्तों से हर तरह की बातें किया करती थी. उन्हीं में एक लड़का था, जो मेरी ही उम्र का लगता था. वो मुझसे काफ़ी बातें किया करता था. मेरी बातें सुनता था, मुझे सलाह दिया करता था.

यही वह लड़का था, जिसे मिलने मैं गई थी और जिसकी गाड़ी में बैठ गई थी. लेकिन उसने मेरा हाथ काफ़ी मज़बूती से पकड़ रखा था और गाड़ी चला रहा था. वह मुझसे बीच-बीच में कहता जा रहा था, “शांत हो जाओ, चुपचाप बैठो. मेरा कहा नहीं माना तो तुम्हें उठाकर गाड़ी की डिक्की में डाल दूंगा.”

वह मुझे एक मकान के तहखाने में ले गया. उसने कुत्ते को बांधने वाला कॉलर मेरे गले में डाल दिया और बिस्तर पर ले गया. उसने मेरे साथ बलात्कार किया.

इमेज कॉपीरइट Alicia Kozakiewicz
Image caption अलीसिया कोज़ीकिएविच को खोजने के लिए निकाला गया नोटिस

उसने मुझे बिस्तर के साथ बांध दिया, मुझे बुरी तरह पीटा. मुझे तरह-तरह की यातनाएं दी और मेरे साथ बलात्कार करता रहा. मेरे साथ ऐसा चार दिन तक होता रहा.

मैंने अपने आप से कहा, “शायद वह मेरी हत्या कर दे. पर मैं संघर्ष किए बग़ैर हार नहीं मानूँगी. पर मुझे लगा कि पूरी तरह टूट चुकी थी.”

ऐसे में मुझे अपने माता-पिता की बहुत याद आई. मैं जानती थी कि वे मुझे ढूंढ रहे होंगे. वे मुझे यहां से निकालने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रहे होंगे. पर सवाल यह था कि वे मुझे ज़िंदा पाएंगे या नहीं.

आज भी लोग मेरी कहानी सुनते हैं तो उन्हें काफ़ी झटका लगता है. जिस समय मेरा अपहरण हुआ, लोगों के लिए यह समझना नामुमकिन था कि मेरे साथ यह आख़िर कैसे हो गया. वे लोग तो पीड़ित पर ही दोष डाल देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Alicia Kozakiewicz
Image caption अलीसिया कोज़ीकिएविच

मैं और मेरे परिवार के लोगों ने यह तय कर लिया कि मैं दूसरे बच्चों और उनके रिश्तेदारों को इससे बचाऊँगी.

हमने यह महसूस किया कि इस तरह की घटना की मुख्य वजह यह है कि उन दिनों इंटरनेट सुरक्षा से जुड़ी शिक्षा बच्चों को नहीं दी जाती थी.

मैं 14 साल की उम्र से ही सबको बताने लगी कि मेरे साथ क्या हुआ था. मैं प्रेज़ेंटेशन देती थी, अपनी कहानी लोगों को सुनाती थी. मेरा यह मिशन आज भी चल रहा है.

सख़्त क़ानून न होने से दो प्रतिशत से भी कम मामलों में बच्चों के यौन शोषण की सही-सही जांच हो पाती है. नया क़ानून बनाया गया ताकि इंटरनेट के ज़रिए बच्चों के साथ होने वाले अपराध को रोकने के लिए टास्क फ़ोर्स बनाया जा सके.

इमेज कॉपीरइट Alicia Kozakiewicz

इस क़ानून को मेरे नाम पर ही अलीसिया लॉ कहा गया. इस नियम के तहत यौन शोषण से बच्चों को बचाने के लिए स्थायी तौर पर व्यवस्था करने का प्रावधान है.

अमरीकी राज्य वर्जीनिया, कैलीफ़ोर्निया, केंटकी, टेक्सस, टेनेसी, एरिज़ोना, हवाई और वॉशिंगटन में अलीसिया क़ानून पारित हो चुका है. हम इस कोशिश में हैं कि इसे विस्कॉन्सिन, मेरीलैंड और दक्षिण कैरोलाइना में भी जल्द ही पारित कर दिया जाए.

मैं फ़ोरेंसिक साइकोलॉजी में मास्टर्स डिग्री कर रही हूँ. मैंने तय कर लिया है कि उन बच्चों के लिए काम करूंगी, जिनका यौन शोषण हुआ है.

मेरे मंगेतर इसमें मेरी भरपूर मदद कर रहे हैं. वे एक नेकदिल इन्सान तो हैं ही, मेरे बहुत अच्छे दोस्त भी हैं.

मैं यह मानती हूँ कि बलात्कार पूरी तरह ताक़त और नियंत्रण का मामला है. ऐसा प्रेम में नहीं होता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार