आतंक के ख़िलाफ़ जंग जारी रहेगी: एर्दोआन

  • 14 मार्च 2016
इमेज कॉपीरइट Serhat

तुर्की के राष्ट्रपति रैचेप तैयप एर्दोआन ने अंकारा में हुए बम धमाकों के बाद वादा किया है कि चरमपंथ के ख़िलाफ़ उनकी जंग जारी रहेगी.

उन्होंने कहा कि आत्मघाती हमलों से तुर्की के सुरक्षा बल और मजबूत होंगे.

हाल के महीनों में राजधानी अंकारा पर इस तरह का ये तीसरा हमला है. रविवार को अंकारा में हुए बम धमाकों में कम से कम 34 लोगों की मौत हुई है.

एर्दोआन ने कहा कि चरमपंथी समूह आम नागरिकों को इसलिए निशाना बना रहे हैं, क्योंकि वे तुर्की के सुरक्षा बलों से शिकस्त खा रहे हैं. सरकारी सूत्रों रविवार को हुए हमलों के पीछे कुर्द विद्रोहियों का हाथ बता रहे हैं.

तुर्की के स्वास्थ्य मंत्री मेहमत मुएज़िनोग्लु ने कहा है कि राजधानी अंकारा में हुए बम धमाके में 34 लोग मारे गए हैं.

उन्होंने कहा कि मारे गए लोगों में वो दो लोग भी शामिल हो सकते हैं जिन्होंने इस हमले को अंजाम दिया.

इमेज कॉपीरइट EPA

रविवार को मध्य अंकारा में हुए इस धमाके में 125 लोग घायल भी हुए हैं.

बताया जाता है कि धमाका इतना जोरदार था कि उसकी आवाज़ पूरे शहर में सुनाई दी.

इमेज कॉपीरइट hurriyet.com.tr

ये धमाका किज़िले इलाके में एक बस स्टॉप और पार्क के नजदीक हुआ.

तुर्की के आंतरिक मामलों के मंत्री ने कहा कि सोमवार को जांच पूरी हो जाने के लिए इस धमाके के लिए जिम्मेदार संगठन का नाम जारी करेंगे.

पिछले महीने भी अंकारा में एक बम धमाका हुआ था जिसमें कम से कम 30 लोग मारे गए थे.

इमेज कॉपीरइट EPA

एक कुर्द चरमपंथी समूह ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी.

तुर्की में मौजूद बीबीसी संवाददाता मार्क लोवेन का कहना है कि छह महीने से भी कम समय में तुर्की की राजधानी में तीन धमाके हुए हैं, जिससे पता चलता है कि तुर्की के सामने गंभीर सुरक्षा चुनौतियां हैं.

उनका कहना है कि पश्चिमी देशों के अहम सहयोगी जिस तुर्की को कभी मध्य पूर्व में एक सुरक्षित जगह माना जाता था वो अब ख़तरनाक होता जा रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)