उत्तर कोरिया ने अमरीकी छात्र को जेल में डाला

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी छात्र आटो वांबियर को उत्तर कोरिया में राज्य के ख़िलाफ़ अपराध करने के लिए 15 साल की कठिन परिश्रम की सज़ा सुनाई गई है.

वर्जिनिया विश्वविद्यालय के 21 वर्षीय वांबियर को जनवरी में उत्तर कोरिया का दौरा करते समय एक होटल से प्रचार चिन्ह की चोरी करने की कोशिश के लिए गिरफ्तार किया गया था.

बाद में सरकारी टीवी पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि एक चर्च समूह ने उनसे यात्रा की निशानी लाने को कहा था.

उन्होंने कहा कि यह मेरी ज़िंदगी की बड़ी भूल थी.

उत्तर कोरिया विरोधियों पर दबाव बनाने के लिए कभी कभी विदेशियों को क़ैद कर लेता है.

वांबियर ने एक प्रेस कांफ्रेस में कहा, "मैंने होटल में स्टॉफ के लिए सुरक्षित क्षेत्र से राजनीतिक नारे की कापी करने की कोशिश की, मैं कोरिया के कामगारों के मिजाज़ को जानना समझना चाहता था, ये एक बेवक़ुफ़ी भरी कोशिश थी."

इमेज कॉपीरइट Reuters

दक्षिण कोरिया से बीबीसी के स्टिफ़न इवांज़ का कहना है कि 15 साल की सज़ा अधिक है और इससे पहले किसी विदेशी को मिली सज़ा के मुक़ाबले यह ज्यादा है.

उनका कहना है कि इस वजह से अमरीका और उत्तरी कोरिया के बीच भारी तनाव पैदा हो सकता है.

सरकारी मीडिया ने अभी तक सज़ा की रिपोर्ट नहीं की है लेकिन चीन की समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक़ यह सज़ा सुप्रीम कोर्ट ने दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार