हाईजैक हुए विमान के ज़्यादातर यात्री रिहा

इमेज कॉपीरइट AFP

अपहरण करके साइप्रस ले जाए गए मिस्र के विमान के ज़्यादातर यात्रियों को छोड़ दिया गया है.

मिस्र की एयरलाइन कंपनी ईजिप्ट एयर ने कहा है कि अपहर्ताओं के साथ बातचीत के नतीजे में ज़्यादातर यात्रियों को छोड़ दिया गया.

फ़्लाइट एमएस181 के एलेक्ज़ेंड्रिया से काहिरा जा रहे विमान का बीच रास्ते अपहरण कर लिया गया था.

इसमें विमान कर्मचारियों के अलावा पांच विदेशी यात्री भी शामिल हैं.

साइप्रस के लारनाका एयरपोर्ट से मिली वीडियो तस्वीरों में कई यात्रियों को विमान छोड़कर बसों में बैठते देखा गया है.

विमान को तब हाईजैक किया गया जब एक यात्री ने ऐलान किया कि उसने विस्फोटक बेल्ट पहन रखी है.

साइप्रस के मीडिया की ताज़ा ख़बरों में कहा गया है कि विमान में केवल एक ही अपहर्ता है जिसने कुछ ''निजी वजहों'' से ऐसा किया और हो सकता है कि वह शरण मांग रहा हो. हालांकि इन कारणों की पुष्टि नहीं हो सकी है.

मिस्र के इस एयरबस320 में 81 यात्री सवार थे. अलेक्ज़ेंड्रिया एयरपोर्ट के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक़ विमान में मौजूद लोगों में आठ अमरीकी, चार ब्रितानी, चार डच, दो बैल्जियन, एक इतालवी और 30 मिस्री यात्री थे.

साइप्रस का लारनाका एयरपोर्ट बंद कर दिया गया है और वहां से आने-जाने वाली फ़्लाइटों को दूसरे एयरपोर्टों के लिए भेजा जा रहा है.

मिस्र की विमानन सेवा ने अपने बयान में कहा है, ''विमान के पायलट ने बताया था कि एक यात्री ने उनसे कहा था कि उन्होंने विस्फोटकों पहन रखे हैं और इसके बाद विमान को लारनाका एयरपोर्ट पर उतारने को कहा.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)