50 साल बाद जहां राष्ट्रपति ने ली शपथ

  • 30 मार्च 2016
म्यांमार के नए राष्ट्रपति इमेज कॉपीरइट Getty

म्यांमार में करीब 50 साल बाद लोकतांत्रिक तौर पर चुने गए पहले राष्ट्रपति ने शपथ ली है.

सैनिक शासक थेन सेन ने नेश्नल लीग फ़ॉर डेमोक्रेसी पार्टी के टिन चॉ को सत्ता की कमान सौंपी और इसी के साथ सैनिक सरकार का लोकतांत्रिक सरकार को सत्ता का हस्तांतरण पूरा हुआ.

उनके साथ हेनरी वैन थिओ ने राष्ट्रपति पद की शपथ ली.

इसके अलावा शपथ लेने वाले कैबिनेट मंत्रियों में एनएलडी की नेता आंग सान सू ची भी थीं.

इमेज कॉपीरइट AP

सू ची के पास विदेश मंत्रालय, राष्ट्रपति कार्यालय, शिक्षा, ऊर्जा और बिजली मंत्रालय होगा.

लेकिन रक्षा, गृह मंत्रालय और सीमा संबंधी मंत्रालय के लिए सेना ने अपने प्रतिनिधियों के नामों का प्रस्ताव दिया है.

69 साल के टिन चॉ ने शपथ लेने के बाद संसद के संयुक्त सत्र में कहा कि वे म्यांमार के लोगों के साथ वफ़ादार रहेंगे.

एनएलडी के लिए संविधान को लोकतांत्रित मूल्यों से जोड़ने के अपने चुनावी वादे को पूरा करने के लिए सेना का ही सहारा लेना होगा क्योंकि अभी भी संसद की 25 फ़ीसदी सीटें सेना के पास हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

संविधान में कोई भी बदलाव करने के लिए सरकार को 75 फ़ीसदी मतों से ज़्यादा की ज़रूरत होगी.

सू ची की पार्टी एनएलडी ने म्यांमार में नवंबर में हुए चुनावों में ऐतिहासिक जीत दर्ज़ की थी.

संविधान में ऐसे व्यक्ति के राष्ट्रपति बनने पर रोक है जिसके परिवार का कोई सदस्य के पास विदेशी नागरिकता हो. माना जाता है कि ये प्रावधान सू ची को निशाना बनाकर किया गया है.

इस प्रतिबंध के बावजूद आंग सान सू ची कह चुकी हैं कि वो राष्ट्रपति से ऊपर होंगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार