'पाक को बदनाम करने के लिए हमले का ड्रामा'

  • 5 अप्रैल 2016
पाकिस्तान के संयुक्त जांच दल के सदस्य. इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तानी मीडिया में आ रही ख़बरों के मुताबिक पठानकोट हमले की जांच करने भारत गई पाकिस्तानी टीम भारतीय एजेंसियों के जुटाए सबूतों से संतुष्ट नहीं है.

पाकिस्तानी टीम को भारत की राष्ट्रीय जांच एजंसी ने ये सबूत उपलब्ध कराए थे और उन्हें इस घटना से जुड़ी जगहों का दौरा कराया था.

पाकिस्तान टुडे की ख़बर में पाक जांच टीम के सूत्रों से हवाले से ख़बर है- "पाकिस्तान को बदनाम करने के लिए इस हमले का ड्रामा किया गया. कोई सबूत नहीं है कि हमलावर पाकिस्तान से आए थे."

ग़ौरतलब है कि फिलहाल आधिकारिक तौर पर पाकिस्तान सरकार की ओर से पठानकोट हमले पर पाकिस्तानी जांच टीम के फैसले के बारे में कुछ नहीं कहा गया है.

अंग्रेज़ी के अख़बार 'पाकिस्तान टुडे' ने ख़बर दी है कि पाकिस्तानी जांच दल ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है. वह इसे अगले कुछ दिनों में प्रधानमंत्री को सौंपेगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

इस ख़बर में ये आरोप लगाया गया है कि भारत सरकार ने सहयोग करने की जगह पाकिस्तानी टीम की जांच में बाधा डालने का प्रयास किया.

पाकिस्तानी मीडिया ने भारत की एनआईए के एक पुलिस अधिकारी की हत्या को लेकर भी सवाल उठाए हैं. ये अधिकारी पठानकोट हमले की जांच में शामिल थे.

इमेज कॉपीरइट

अंग्रेजी के अख़बार 'द नेशन' के तीन अप्रैल की संपादकीय में लिखा, ''पाकिस्तानी संयुक्त जांच दल (जेआईटी) पठानकोट मामले में जब तक कोई ठोस सबूत नहीं जुटा लेता है, तब तक इस मामले में आगे कोई कार्रवाई नहीं हो सकती है.''

'पाकिस्तान टुडे' ने चार अप्रैल को ख़बर दी कि पाक टीम के एक सदस्य ने कथित तौर पर कहा कि मुस्लिम जांचकर्ता की हत्या सबूत है कि भारतीय प्रशासन मामले मेें कुछ छिपा रहा है.

अंग्रेज़ी के अलावा ऊर्दू अख़बारों में भी पाठनकोट की जांच रिपोर्ट और भारतीय जांच दल के सदस्य मोहम्मद तंजील अहमद की हत्या पर चिंता जताई गई है.

पाकिस्तान का सबसे बिकने वाला उर्दू अख़बार 'जंग' कहता है, '' यह समय की ज़रूरत है कि भारतीय अधिकारी की हत्या की विस्तृत और निष्पक्ष जांच हो. इस मामले के असली कारणों को सामने लाया जाए. अगर ऐसा नहीं हुआ तो पठानकोट हमला विवादास्पद मामले में बदल जाएगा. हालांकि यह भारत सरकार की ज़िम्मेदारी है कि वह इस मामले में सभी तरह के शक दूर करे.''

इमेज कॉपीरइट Getty

ऊर्दू अख़बार 'डेली एक्सप्रेस' का इस्लामाबाद संस्करण लिखता है, ''हमारा विश्वास है कि तंजील अहमद की हत्या कोई दुर्घटना नहीं है. यह भारतीय एजंसियों की योजना का हिस्सा हो सकता है. यह संभव है कि उन्हें पठानकोट हमले को लेकर कोई सबूत मिल गया हो, जो कि भारतीय एजंसियों के ख़िलाफ़ जाता हो और उनके षड्यंत्र की पोल खोलने के लिए काफी हो.''

रूढ़िवादी और राष्ट्रवादी माने जाने वाले उर्दू अख़बार 'नवा-ए-वक्त' का दावा है, ''जब इस अधिकारी की हत्या की गई तो वह अधिकारी पठानकोट वायुसेना अड्डे पर हुए हमले के हमलावरों को बेनकाब करने वाले थे. पठानकोट हमले में भारत का असली चेहरा सामने आ गया है.''

इस्लामाबाद से निकलने वाला ज़िहाद समर्थक अख़बार 'औसाफ़' लिखता है, ''भारत अगर पठानकोट मामले की जांच को लेकर गंभीर है तो उसे इस मामले की जांच कर रहे अधिकारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए. बहानेबाजी और दलीलों से कोई लाभ नहीं होगा. अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इस तरह के मामलों का संज्ञान लेना चाहिए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार