ढाका में धर्मनिरपेक्ष ब्लॉगर की चाकू मारकर हत्या

  • 7 अप्रैल 2016
इमेज कॉपीरइट Nazimuddin Samad

बांग्लादेश में धर्मनिरपेक्ष विचारों को फ़ेसबुक पर ज़ाहिर करने वाले कानून के एक छात्र की हत्या कर दी गई है.

पुलिस के अनुसार बुधवार देर रात निज़ामुद्दीन समाद जब एक ट्रैफिक चौराहे पर रुके हुए थे, तभी उन्हें पहले चाकू मारा गया और फिर उन पर गोलियां चलाई गईं.

28 साल के समाद धर्मनिरपेक्ष विचारों का प्रचार करने वाले समूह 'गणजागरण मंच' के संयोजक बताए जाते हैं.

राजधानी ढ़ाका में सैंकड़ो की संख्या में यूनिवर्सिटी के छात्रों ने निज़ामुद्दीन समाद की हत्या के विरोध में विरोध प्रदर्शन किया.

पिछले साल भी धार्मिक कट्टरवादियों ने कई महत्वपूर्ण धर्मनिरपेक्ष ब्लॉगरों को अपना निशाना बनाया था.

बांग्लादेश आधिकारिक रूप से धर्मनिरपेक्ष देश है लेकिन आलोचकों का मानना है कि सरकार इन हमलों से निपटने में नाकाम रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

निज़ामुद्दीन समाद जगन्नाथ यूनिवर्सिटी के छात्र थे और अपने फेसबुक पेज पर धार्मिक कट्टरवाद के खिलाफ लगातार लिखते रहे थे. उन्होंने धर्म के बारे में लिखा था, "मेरा कोई धर्म नहीं है."

हाल के महीने में धर्मनिरपेक्षता के पक्ष में लिखने वालों पर कई जानलेवा हमले किए गए हैं. हालांकि अब तक हमले के दोषियों का कोई सुराग नहीं मिला.

अब तक चार प्रमुख धर्मनिरपेक्ष ब्लॉगरों की हत्या हुई है. उनके नाम उस 84 नामों वाली सूची में थे जिसे 2013 में एक इस्लामिक ग्रुप ने जारी किया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

बांग्लादेश में पहले भी शिया, सूफी और अहमदी मुसलमान, ईसाई और हिंदुओ जैसे अल्पसंख्यकों पर हमले हुए हैं.

पिछले ही साल इटली के एड वर्कर और एक जापानी शख्स को गोली मार दी गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)