नरेंद्र मोदी का 12 करोड़ का पुतला

  • 21 अप्रैल 2016
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट NARENDRA MODI FB PAGE

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मशहूर मैडम तुसाद म्यूज़ियम में पहुंच गए हैं.

उनके पुतले लंदन, सिंगापुर, हांग कांग और बैंकॉक के मैडम तुसाद म्यूज़ियम में लोगों को देखने के लिए लगा दिया गए हैं.

पुतले में मोदी क्रीम कलर के कुर्ते और जैकेट हैं और वो नमस्ते की मुद्रा में है.

मैडम तुसाद म्यूज़ियम ने अपनी वेबसाइट में जानकारी दी कि कई कलाकारों ने उनके पुतले को चार महीने की मेहनत से बनाया है और इसे बनाने की लागत आई है 18 लाख डॉलर यानी क़रीब 12 करोड़ रुपए.

नरेंद्र मोदी ने अपने फ़ेसबुक पेज पर अपने पुतले के साथ खिंचाई अपनी तस्वीर पोस्ट की और लिखा, "अपनी जनता के सेवक के तौर पर मुझे अपने मोम के पुतले से मुलाक़ात का मौक़ा मिला."

इमेज कॉपीरइट Narendra Modi Twitter

सोशल मीडिया पर बड़ी संख्या में इस बारे में कमेंट आ रहे हैं.

प्रीत दीप सिंह नाम के फ़ेसबुक यूज़र ने लिखा, "मोदी जी. आप अपने करोड़ों के सूट में बढ़िया लगते हो. आपके पुतले को भी वही सूट पहनाना चाहिए था. और मैडम तुसाद ही क्यों, भारत के हर शहर में आपका पुतला होना चाहिए."

विक्रमादित्य लिखते हैं, "मोदी जी अपने मोम के पुतले को देखकर मैडम तुसाद वालों से नाराज़ हो गए और बोले इसकी हाइट मुझसे ज़्यादा कैसे है. ये सुनकर मैडम तुसाद वालों ने कहा, सर के लिए हील वाले जूते लाओ."

@over_rated नाम के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, "अब तो दो-दो मोदी हो गए हैं. ऐसे में एक भारत में रहेंगे और दूसरे वाले आराम से विदेशी दौरों पर जाएंगे और किसी को पता भी नहीं चलेगा."

संदीप लिखते हैं, "अरविंद केजरीवाल का मोम का पुतला जब मैडम तुसाद पहुंचेगा तो मोदी जी के पुतले को देखकर ग़ुस्से से पिघल जाएगा. तब केजरीवाल जी, नरेंद्र मोदी पर अपने पिघलने का आरोप लगा देंगे."

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने मैडम तुसाद में मोदी का पुतला लगने पर ख़ुशी भी ज़ाहिर की है.

नीता लिखती हैं, "ये भारत के लिए गौरव की बात है कि हमारे पीएम का पुतला अब इस अंतरराष्ट्रीय म्यूज़ियम की शान बढ़ाएगा."

विक्रम लिखते हैं, "ख़बरदार, होशियार, नमस्कार. मोदी जी मैडम तुसाद पहुंच गए हैं. दुनिया भारत की ताक़त जान चुकी है."

विशाल प्रजापति लिखते हैं, "कांग्रेस और केजरीवाल एक मोदी से नहीं निपट पा रहे हैं. अब तो दो-दो मोदी हो गए हैं."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार