पाकिस्तान में सिख नेता की हत्या

सरदार सोरन सिंह इमेज कॉपीरइट Facebook

पाकिस्तान के ख़ैबर पख़्तूनख़्वाह प्रांत में अज्ञात लोगों ने मुख्यमंत्री के सलाहकार और प्रांतीय विधानसभा सदस्य सरदार सूरन सिंह की हत्या कर दी है.

शुक्रवार शाम के वक़्त सूरन सिंह बुरेन शहर स्थित अपने घर जा रहे थे तभी अज्ञात हमलावरों ने उन पर गोलियां चला दी.

पुलिस के मुताबिक़ सूरन सिंह को गोली आंख के क़रीब माथे पर लगी. उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई.

बुनेर के ज़िला पुलिस अधीक्षक ख़ालिद महमूद हमदानी ने बीबीसी को बताया कि सरदार सूरन सिंह की हत्या के बाद पुलिस ने इलाक़े की घेराबंदी कर ली है.

इमेज कॉपीरइट
Image caption पेशावर में 70 सालों से बंद ये गुरुद्वारा हाल ही में सूरन सिंह की देखरेख में शुरू किया गया था.

पुलिस ने इस हत्या के पीछे टारगेट किलिंग की आशंका जताई है.

सरदार सूरन सिंह पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ के विधायक थे और इसके अलावा वो अल्पसंख्यक मामलों में मुख्यमंत्री के सलाहकार भी थे.

सूरन सिंह साल 2011 में पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ में शामिल हुए थे. इससे पहले वो पाकिस्तान की जमात-ए-इस्लामी पार्टी से जुड़े थे.

वो पाकिस्तान में सिख समुदाय का अहम चेहरा थे और हमेशा से अल्पसंख्यक अधिकारों के लिए आवाज़ उठाते रहे थे.

सूरन सिंह पेशे से डॉक्टर थे. इसके अलावा उन्होंने तीन साल तक पश्तो ज़बान के एक टीवी चैनल के लिए भी काम किया था.

इस प्रोग्राम का नाम था 'ज़ह हम पाकिस्तान यम' यानि 'मैं भी पाकिस्तान हूँ.'

31 मार्च को अंदरुनी पेशावर शहर के हस्तंगरी केट के क़रीब 70 सालों से बंद सिखों के एक गुरुद्वारे को खोला गया था.

यह गुरुद्वारा हाल ही में सूरन सिंह की देख-रेख में शुरू किया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार