'चीनी कम्युनिस्ट पार्टी भगवान से ज़्यादा अहम'

  • 25 अप्रैल 2016
शी जिनपिंग इमेज कॉपीरइट Reuters

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने देश के धार्मिक संगठनों से कहा है कि वे अपने मूल्यों को चीनी संस्कृति और कम्युनिस्ट पार्टी के अनुरूप बनाएं.

चीन की सरकारी मीडिया के मुताबिक़ राष्ट्रपति ने यह बात बीजिंग में धर्म के प्रति पार्टी का रुख साफ़ करने के दौरान कहा.

राष्ट्रपति शी ने अपने भाषण में कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी भगवान से अधिक महत्वपूर्ण है.

चीन में लाखों बौद्ध, मुसलमान और ईसाई रहते हैं. शी जिनपिंग ने उन्हें धार्मिक स्वतंत्रता का वादा तो किया है, लेकिन इस स्वतंत्रता पर पाबंदियां भी लगाई हैं.

इमेज कॉपीरइट Chen Jiangang

चीनी सरकार इस बात पर जोर देती है कि लोग सरकार की तरफ से मुहैया कराई गई इमारतों में ही पूजा करें.

अधिकारियों ने कई ऐसे चर्च तोड़े हैं जो नियमों का उल्लंघन करते हैं, और बीजिंग में मुसलमानों को दाढ़ी रखने पर रोक लगाई है.

उन्होंन कहा, "धार्मिक संगठनों के लिए जरूरी है कि वे चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व से जुड़े रहें और खुद को विदेश से आने वाले धार्मिक प्रभावों से बचाए रखें."

जब से शी जिनपिंग सत्ता में आए हैं तब से धार्मिक संस्थाओं के ख़िलाफ़ सरकार का बर्ताव सख्त हो गया है.

इस कार्रवाई के तहत पश्चिमी शिनचियांग प्रांत में रमजान के महीने में रोज़े रखने और दाढ़ी रखने पर प्रतिबंध लगाए गए .

हाल ही में पूर्वी शिनचियांग प्रांत में स्थानीय अधिकारियों ने चर्च तोड़ दिए या उन पर लगे क्रॉस को हटा दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार