सबसे बड़े परमाणु हादसे के 30 साल

  • 26 अप्रैल 2016
परमाणु हादसा इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

यूक्रेन के चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र में हुए दुनिया के सबसे बड़े परमाणु हादसे को मंगलवार को 30 साल हो गए लेकिन सयंत्र के चारों ओर एक्सक्लूज़न ज़ोन अब भी क़ायम है.

26 अप्रैल, 1986 को चेर्नोबिल के नंबर चार रिएक्टर में धमाका हुआ था जिसके बाद विकिरण पूरे यूरोप तक फैल गया था.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

घटना के तुरंत बाद कम से कम 30 लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद विकिरण से हुई बीमारियों में कई लोग मारे गए हालांकि उनकी संख्या को लेकर मतभेद हैं.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

फ़ोटोग्राफ़र जेर्ज़ी वीर्ज़बिकी दो गाइडों को लेकर, जो परमाणु सयंत्र के पूर्व कर्मचारी थे, इस ज़ोन में गए.

वास्तविकता यह है कि इस एक्सक्लूज़न ज़ोन को कभी पूरी तरह से ख़ाली नहीं कराया गया. रेडिएशन के स्तर के अनुरूप नियम अलग-अलग हैं.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

पावर प्लांट में कोई स्थायी आधिकारिक निवासी नहीं है. कर्मचारियों को चेर्नोबिल शहर में रहने की इजाज़त है जो 15 किलोमीटर दूर है और उनमें से एक ख़ास संख्या को ही कुछ हफ़्ते के लिए रहने दिया जाता है.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

प्लांट से कुछ दूर मारिया और इवान सेमीनियुक अपने गांव में खाना खा रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

दुर्घटना के समय उन्हें चेर्नोबिल से 20 किलोमीटर दूर बसे उनके गांव से हटा दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

अधिकारियों ने उन्हें बताया था कि वह तीन दिन बाद वापस आ सकते हैं लेकिन वह दो साल बाद ही लौट सके.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

उनके घर में रेडिएशन का स्तर डोसिमीटर पर ख़तरे से बहुत कम पाया गया था.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

उनके घर के पास के इलाक़े में कुछ और भी लोग रहते हैं लेकिन मोटे तौर पर यह इलाक़ा खाली ही है.

इमेज कॉपीरइट Jerzy Wierzbicki

दुर्घटना के बाद कुल 1,16,000 लोगों को एक्सक्लूज़न ज़ोन से बाहर निकाला गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार