सऊदी कंपनी ने 50 हज़ार लोगों की छुट्टी की

इमेज कॉपीरइट AP

सऊदी अरब की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक बिनलादिन समूह ने पचास हज़ार लोगों को नौकरी से निकाल दिया है.

कच्चे तेल के दामों में भारी गिरावट से सऊदी अरब को ख़ासा नुकसान उठाना पड़ रहा है और इससे निपटने के लिए सरकार कई क़दम उठा रही है.

हालांकि जेद्दाह में अरब न्यूज़ के संपादक सिराज वहाब का कहना है कि बिनलादिन समूह के फ़ैसले से सऊदी अरब की आर्थिक स्थिति का कोई लेना देना नहीं है.

वो कहते हैं कि पिछले साल सितंबर में मक्का की मस्जिद में हुए क्रेन हादसे में 107 लोगों की मौत के बाद इस कंपनी को दोषी पाते हुए सरकार ने इस पर रोक लगा दी थी.

उनके मुताबिक़ ऐसे में कंपनी के पास अपने कर्मचारियों की छंटनी करने के अलावा कोई चारा नहीं बचा था.

बिनलादिन समूह को वही परिवार चलाता है जिससे अल कायदा के पूर्व सरगना ओसामा बिन लादेन का भी संबंध था.

इस कंपनी को दशकों से सऊदी शाही परिवार से बड़े निर्माण कॉन्ट्रैक्ट मिलते रहे हैं. इनमें दुनिया में मुसलमानों के सर्वोच्च धार्मिक स्थल मक्का में हरम शरीफ़ के विस्तार की परियोजना भी शामिल थी.

इस कंपनी में कर्मचारियों की संख्या कभी दो लाख तक थी.

कई बार कंपनी के कुछ कर्मचारियों ने छिटपुट विरोध भी जताया क्योंकि महीनों से उन्हें वेतन नहीं मिला है.

सिराज वहाब कहते हैं कि कर्मचारियों की छंटनी के कंपनी के फैसले से जो लोग प्रभावित होंगे उनमें हजारों भारतीय भी शामिल हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)