23 साल बाद खुली बोस्निया की मस्जिद

फ़रहादिजा इमेज कॉपीरइट AFP

बोस्निया की फ़रहात पाशा मस्जिद दोबारा श्रद्धालुओं के लिए शनिवार को खोल दिया गया. इस दौरान दस हज़ार से ज़्यादा लोग यहां मौजूद थे.

1992-1995 युद्ध में सर्बो ने इस मस्जिद को नष्ट दिया था जो सीधे बोस्निया की सदियों पुरानी धर्मनिरपेक्षता पर हमला था.

फ़रहात पाशा मस्जिद को फ़रहादिजा के नाम से भी जाना जाता है जो 16वीं सदी की तुर्क वास्तुकला का एक नायाब उदाहरण है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ये मस्जिद बंजा लुका के 16 और देशों की 534 मस्जिदों में से एक है जिसे बोस्नियाई सर्बों ने नष्ट करने की कोशिश की.

कोशिश थी कि बोस्निया के उस हिस्से को पड़ोसी सर्बिया का हिस्सा बना लिया जाए.

तथाकथित 'जातीय सफ़ाई' योजना के तहत रोमन कैथोलिक क्रोएट्स और गैर-सर्ब भी निशाना बनाए गए.

उन्हें घर से निकालने, संपत्ति लूटपाट, कुछ की हत्या और कुछ को अलग शिविरों में रखने जैसी यातनाएं दी गईं.

इमेज कॉपीरइट epa

धरोहरों को नुक़सान पहुंचाकर सर्ब चाहते थे कि ये लोग दोबारा अपने घर न लौटे.

1995 में एक लाख़ से ज्यादा लोगों की हत्या के बाद एक शांति समझौते ने देश को दो हिस्सों में बांट दिया.

समझौते में शरणार्थियों को अपने पुराने घरों में लौटने और फ़रहादिजा मस्जिद के दोबारा निर्माण की गारंटी दी गई थी.

इमेज कॉपीरइट epa

लेकिन 2001 में नींव रखते समय सर्बिया की राष्ट्रवादी भीड़ ने अड़चन डाली. इसमें एक मुस्लिम की मौत हो गई थी और दर्जनों घायल हुए थे.

नाटो सेनाओं को हेलीकॉप्टरों से समारोह में मौजूद विदेशी राजदूतों को वहां से सुरक्षित निकालना पड़ा था.

मस्जिद के तीन हज़ार पांच सौ टुकड़ों को इकट्ठा कर मस्जिद के हिस्सों में लगाया गया. इसके पुनर्निर्माण में 15 साल का वक़्त लगा.

शनिवार को फ़रहादिजा मस्जिद गिराने की 23वीं बरसी के मौके पर बोस्नियाई सर्ब अधिकारियों ने इस समारोह की सुरक्षा के लिए हज़ार से ज़्यादा पुलिसवालों को तैनात किया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

इस समारोह में तुर्की के निवर्तमान प्रधानमंत्री, बोस्नियाई नेता, विदेशी राजदूत और रोमन कैथोलिक, सर्ब रूढ़िवादी चर्च और यहूदी समुदाय के प्रतिनिधियों ने शिरकत की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)